हादसा : नगर सेना के गोताखोरों ने रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर धरमसागर तालाब में डूबे नवयुवक का शव निकाला

0
706
युवक के शव को धरमसागर तालाब में खोजते प्रशिक्षित नगर सैनिक एवं एसडीआरएफ टीम के सदस्य।

* तीन घण्टे की कड़ी मशक्कत के बाद पानी से बाहर निकाला गया शव

* अपने चचेरे भाइयों के साथ तालाब में नहाने गया था नवयुवक श्रमिक

पन्ना।(www.radarnews.in) नगर के धरम सागर तालाब में नहाने गए कटरा मोहल्ला निवासी एक नवयुवक श्रमिक की पानी में डूबने से दर्दनाक मौत गई। वह अपने चचेरे भाईयों के साथ दोपहर के समय नहाने के लिए तालाब गया था। तालाब में उतरकर नहाते समय वह गहराई में पहुँच गया और पानी में डूब गया। अचानक नजरों से ओझल हुए युवक का काफी खोजबीन के बाद भी जब कोई पता नहीं चला तो कोतवाली थाना पुलिस को घटना की सूचना दी गई। पुलिस से जानकारी मिलने पर नगर सेना और एसडीआरएफ़ की टीम तुरंत मौके पर पहुंची और बिना किसी देरी के विशाल झीलनुमा तालाब में डूबे युवक की खोजबीन के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर करीब 3 घण्टे की मशक्कत के बाद शाम के समय शव को बाहर निकाला गया। इस दौरान धरमसागर तालाब के मुसाब घाट पर बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे।
प्राप्त जानकारी के अनुसार शहर के कटरा मोहल्ला में कोतवाली थाना के नजदीक रहने वाला रमजान खान पिता इबरार खान इब्बू 20 वर्ष अपने पिता के साथ दिल्ली में रहकर मजदूरी करता था। कोरोना संकट के चलते वह लॉकडाउन घोषित होने के कुछ दिन पूर्व ही पन्ना लौट आया था। शुक्रवार 8 मई को रमजान दोपहर के समय अपने चचेरे भाईयों के साथ धरमसागर तालाब में नहाने के लिए गया हुआ था। तालाब के अत्याधिक गहराई वाले क्षेत्र केन्द्रीय विद्यालय के पीछे मुसाब घाट के पानी में उतरकर नहाने के दौरान वह गहरे पानी में चला गया। उसे तैरना नहीं आता था। रमजान कब गहरे पानी में डूब गया उसके भाईयों को इसकी भनक तक नहीं लगी। अचानक नजरों से ओझल हुए अपने भाई को लेकर परेशान युवकों ने अपने स्तर पानी में उसकी खोजबीन की लेकिन कोई पता नहीं चल सका।
पन्ना के केन्द्रीय विद्यालय के पीछे मुसाब घाट में डूबे युवक की के सम्बंध में सूचना मिलने पर पहुंचे पुलिसकर्मी।
रमजान के पानी में डूबने से हैरान-परेशान युवकों के द्वारा घटना की सूचना कोतवाली थाना पुलिस को दी गई। पुलिस ने नगर सेना को सूचित किया। घटना की गंभीरता को देखते हुए पन्ना एसडीओपी रामसुहावन रावत, कोतवाली थाना निरीक्षक हरी सिंह ठाकुर हमराही बल के साथ मौके पर पहुंचे। कुछ ही देर में नगर सेना और एसडीआरएफ की टीम वोट व अन्य साजो-सामान के लेकर पहुँच गईं और बिना किसी देरी के रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। इस दौरान नगर सेना के गोताखोरों द्वारा मुसाब घाट के बड़े क्षेत्र में तलहटी को खंगाला गया। इस दौरान शाम होते देख मौके पर मौजूद कई लोग निराश होने लगे और अगले दिन पुनः रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने की स्थिति निर्मित होने की आशंका जताने लगे। लेकिन तभी कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार गोताखोरों ने पानी की गहराई से रमजान के शव खोज निकाला। करीब तीन घण्टे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद शाम लगभग 6:30 बजे युवक के शव को पानी से बाहर लाया गया।

फूट-फूटकर रोए परिजन

तालाब में डूबे युवक की खोजबीन के लिए जारी रेस्क्यू ऑपरेशन को मौके पर देखते हुए लोग।
जवान बेटे रमजान की हादसे में असमय दर्दनाक मौत से व्यथित पीड़ित परिजन उस समय फूट-फूटकर रोने लगे जब उसके शव को पानी से बाहर निकाला गया। सोशल मीडिया के माध्यम से इस हादसे की खबर के फैलने से लॉकडाउन के बाद भी रेस्क्यू ऑपरेशन को देखने तालाब के घाट पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे थे। इस दौरान पीड़ित परिजनों को रोते-बिलखते हुए जिसने भी देखा उसका भी दिल भर आया और आँखें छलक उठीं। शव को पानी से निकालने के बाद पोस्टमार्टम के लिए शव विच्छेदन गृह में रखवाया गया। इस घटना पर पंचनामा कार्रवाई उपरान्त पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है। शाम होने की वजह से मृतक के शव का पोस्टमार्टम शनिवार को सुबह होने की बात कही जा रही है।