हादसा : नदी में बाइक गिरने से महिला की मौत, पति की हालत गंभीर

0
498
अजयगढ़ के शव विच्छेदन गृह के बाहर पोस्टमार्टम होने के इंतजार में खड़े शोक संतृप्त परिजन।

*   पन्ना जिले के अजयगढ़ थाना क्षेत्र अंतर्गत केन नदी की घटना

पन्ना। (www.radarnews.in) पड़ोसी जिला छतरपुर के राजनगर से वापस अपने गांव गुमानगंज लौट रहे दंपत्ति की बाइक रात के अँधेरे में केन नदी के उबड़-खाबड़ रपटे को पार करते समय अचानक अनियंत्रित होकर नदी में जा गिरी। इस दुर्घटना में अत्यंत ही गंभीर रूप से जख्मी महिला की उपचार के दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अजयगढ़ में मौत हो गई। जबकि मृतिका के पति की हालत गंभीर होने पर उसे जिला चिकित्सालय पन्ना के लिए रेफरल किया गया है। यह हादसा जिले के अजयगढ़ थाना की हनुमतपुर पुलिस चौकी अंतर्गत गुमानगंज के रपटे पर गुरुवार 29 अप्रैल की रात लगभग 8 बजे हुआ।
प्राप्त जानकारी के अनुसार गणेशा यादव निवासी गुमानगंज अपनी पत्नी रामदेवी को लेकर गुरुवार की शाम राजनगर से बाइक से वापस गांव लौट रहा था। रास्ते में केन नदी को पार करते समय गुमानगंज के उबड़-खाबड़ रपटे को पार करते समय बाइक अनियंत्रित होने से यादव दंपत्ति बाइक समेत नदी में निकले पत्थरों पर जा गिरे। इस दुर्घटना की जानकारी मिलने पर आनन-फानन मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने घायल दंपत्ति को नदी से बाहर निकाला और डायल-100 पुलिस वाहन को बुलाकर उन्हें उपचार हेतु अजयगढ़ रवाना किया गया।
अजयगढ़ के शव विच्छेदन गृह के बाहर मौजूद पुलिस के जवान पंचनामा कार्रवाई एवं परिजनों के बयान दर्ज करते हुए।
सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अजयगढ़ में उपचार के दौरान रामदेवी का दुखांत हो गया। जबकि गणेशा यादव की गंभीर हालत को देखते हुए उसे प्राथमिक उपचार के बाद जिला चिकित्सालय पन्ना के लिए रेफरल कर दिया। शुक्रवार 30 अप्रैल को अजयगढ़ में मृतिका का पोस्टमार्टम कराने के पश्चात पुलिस ने शव को अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दिया। घटना पर हनुमतपुर चौकी पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले को विवेचना में लिया है। इस हादसे के बाद से ग्राम हनुमतपुर में शोक व्यापत है।
उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कहर से बचाव एवं रोकथाम को लेकर पिछले 20 दिनों से मध्यप्रदेश के पन्ना समेत अन्य जिलों में टोटल लॉकडाउन/जनता कर्फ्यू जारी है। इस कारण पर्याप्त संख्या में सवारियां न मिलने से प्रदेश के अंदर बसों का संचालन लगभग बंद है। ऐसी स्थिति में आवश्यक कार्य आने पर लोगों को निजी वाहनों से आवागमन करना पड़ रहा है।