बाँदा में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने पर पन्ना जिले में अलर्ट, यूपी बार्डर को पूरी तरह सील कर सभी रास्तों पर पुलिस ने सख्त किया पहरा, जिले के स्वास्थ्य महकमे में मचा हड़कम्प

0
1089
फाइल फोटो।
  • अजयगढ़ के आइसोलेशन सेंटर में रखे गए 4 लोगों के सैम्पल जाँच के लिए भेजे

  • सीमावर्ती 6 ग्राम पंचायतों का विकासखण्ड मुख्यालय से अजयगढ़ सम्पर्क काटा

  • कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु आम नागरिकों एवं आवाजाही पूरी तरह बंद की गई

  • निरीक्षण पर आए एसपी बोले यूपी बार्डर की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाएंगे

रिजवान खान, पन्ना/अजयगढ़। (www.radarnews.in) पड़ोसी जिला बाँदा उत्तर प्रदेश में नोवल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण का पहला केस सामने आने के बाद से मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में प्रशासनिक हल्कों में हड़कम्प मचा है। कोरोना के खतरे से निपटने के लिए प्रशासन ने जिले के अजयगढ़ तहसील क्षेत्र में आनन-फानन में सतर्कता और निगरानी पहले से कई गुना बढ़ा दी है। शनिवार को पन्ना जिले के पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने अचानक अजयगढ़ पहुंचकर बाँदा से सटे सीमवर्ती इलाकों में स्थित चेक पोस्ट का सघन निरीक्षण किया। पुलिस कप्तान ने जिले में कोरोना वायरस संक्रमण की प्रभावी रोकथाम एवं बचाव के लिए उत्तर प्रदेश को जाने वाले सभी रास्तों पर चौकसी बढ़ाने अजयगढ़ थाना प्रभारी को कड़े निर्देश देते हुए लॉकडाउन की अवधि में आम लोगों की आवाजाही पर पूरी तरह रोक लगा दी है। जटिल भौगोलिक संरचना वाले सीमावर्ती इलाके में उत्तर प्रदेश के अंदर स्थित पन्ना जिले की 6 ग्राम पंचायतों का विकासखण्ड मुख्यालय अजयगढ़ से सम्पर्क भी फिलहाल पूरी तरह काट दिया गया। कोरोना संक्रमण के प्रसार के सम्भावित खतरे से लोगों को बचाने के लिए तत्परता से यह कदम उठाया गया है।
अजयगढ़ में सवास्थ्य विभाग समेत अन्य विभागों के खण्ड स्तरीय अधिकारियों-कर्मचारियों की बैठक लेते एसडीएम एवं सीएमएचओ पन्ना।
जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर एल. के. तिवारी भी आज दिनभर अजयगढ़ में ही रहे। उन्होंने स्थानीय डॉक्टरों एवं पैरामेडीकल स्टॉफ की बैठक लेकर उन्हें आवश्यक सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा अजयगढ़ के छात्रावास में बने अस्थाई आइसोलेशन सेंटर में रखे गए कोरोना संदिग्ध चार व्यक्तियों के नमूने लेकर उन्हें जाँच के लिए आईसीएमआर लैब जबलपुर भेजा गया। कुल मिलाकर बांदा में कोरोना संक्रमित व्यक्ति मिलने की पुष्टि होने के बाद से पन्ना जिले के सीमावर्ती अजयगढ़ तहसील क्षेत्र में प्रशासनिक हलचल और पाबंदियाँ बढ़ गईं हैं।
उल्लेखनीय है कि पन्ना और बाँदा जिले की सीमाएं आपस में जुड़ीं हैं, जिसकी लम्बाई करीब 50-60 किलोमीटर है। पन्ना पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने अन्तर्राज्जीय सीमा नाका पन्ना चौकी के निरीक्षण के दौरान यूपी बार्डर पर निगरानी बढ़ाने के लिए सीसीटीव्ही कैमरे लगाने की बात कही है। उन्होंने बताया कि इन कैमरों की निगरानी पन्ना में स्थित कण्ट्रोल रूम से की जायेगी। इसके पश्चात उन्होंने बरौली और रामनई का दौरा किया। पुलिस कप्तान के भ्रमण के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बीकेएस परिहार, अजयगढ़ एसडीएम बी. बी. पाण्डेय, अजयगढ़ एसडीओपी इसरार मन्सूरी, रक्षित निरीक्षक देविका सिंह एवं अजयगढ़ थाना प्रभारी अरविन्द कुजूर उपस्थित रहे।
अजयगढ़ एसडीएम बी. बी. पाण्डेय ने बताया कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए एहतियात के तौर पर अजयगढ़-पन्ना मार्ग को पूर्णता बंद कर दिया गया है। उत्तरप्रदेश जाने वाले मुख्य मार्ग- रामनगर, पन्ना चौकी व नरदहा पहले से ही बंद हैं। उत्तरप्रदेश की सीमा के अंदर पन्ना जिले के जो गांव स्थित हैं या फिर यूपी से घिरे हैं जैसे कि- चंदौरा, बरौली, खरौनी, नरदहा, रामनई, कटर्रा, मौक़छ, बीरा, नयागांव, बीहर सरवरिया, नयापुरवा, कीरतपुरवा का तिराहा, हरनामपुर एवं खोरा आदि को अजयगढ़ और पन्ना से जोड़ने वाले हर छोटे-बड़े रास्ते को पूरी तरह सील करते हुए वहाँ पुलिस जवानों को तैनात किया गया है। उत्तर प्रदेश के अंदर स्थित पन्ना के ग्रामों में लॉकडाउन की अवधि में सिर्फ प्रशासनिक अमले की आवाजाही रहेगी। आम लोगों के आवागमन पर रोक लगाई गई है। उत्तर प्रदेश के बाँदा जिले से मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में लोगों के प्रवेश को पूर्णतः प्रतिबंधित करते हुए इसे सख्ती से रोकने के लिए बार्डर पर पुलिस की थ्री लेयर सिक्योरिटी लगाई गई है, ताकि की कोई भी चोरी-छिपे दाखिल न हो सके।

सीमावर्ती 41 गांवों में पुनः होगा सर्वे

अजयगढ़ के आइसोलेशन सेंटर में रुके एक व्यक्ति की कोरोना संक्रमण जांच हेतु सैम्पल लेते हुए स्वास्थ्यकर्मी।
अजयगढ़ एसडीएम श्री पाण्डेय बताया कि पड़ोसी जिला बाँदा में कोरोना पॉजिटिव केस मिलने के बाद इस खतरनाक संक्रमण की रोकथाम के लिए सीमावर्ती इलाके के 41 ग्रामों में सर्दी-खाँसी-जुकाम-बुखार पीड़ित लोगों के का नए सिरे से पुनः सर्वेक्षण कराने का निर्णय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के साथ हुई बैठक में लिया गया। आपने बताया कि अजयगढ़ विकासखण्ड में पदस्थ किए गए 15 चिकित्सक आगामी कुछ दिनों तक बार्डर से सटे हुए गांवों में पूरा फोकस कर क्षेत्रीय लोगों को अपनी सेवाएं देंगे। उल्लेखनीय है कि बाँदा निवासी जो व्यक्ति जाँच में कोरोना संक्रमित पाया गया वह पिछले महीने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आयोजित हुए एक धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद 11 मार्च को वापस लौटा था। बाँदा जिले के प्रशासन के द्वारा उसके सम्पर्क में आए लोगों की छानबीन की जा रही है।