पन्ना में आक्रोशित किसान ट्रेक्टर महारैली आज, काले कानून के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरेंगे 500 ट्रेक्टर

0
494
ट्रेक्टर पर सवार भारतीय किसान यूनियन के संभागीय अध्यक्ष सेवालाल पटेल।

किसान विरोधी कानूनों को वापस लेने नवीन कलेक्ट्रेट में होगा प्रदर्शन

भारतीय किसान यूनियन की महारैली में जिले भर के किसान होंगे शामिल

शादिक खान, पन्ना। ( www.radarnews.in) केन्द्र सरकार के द्वारा पारित किसान विरोधी काले कानूनों के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर लाखों किसान पिछले दो माह से आंदोलन कर रहे हैं। इनके समर्थन में मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के किसान एकजुटता दिखाते हुए काले कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर सोमवार 25 जनवरी को आक्रोशित किसान ट्रेक्टर महारैली निकालेंगे। जिला मुख्यालय पन्ना में निकलने वाली महारैली का आयोजन भारतीय किसान यूनियन (अरा.) के तत्वाधान में किया गया है। भाकियू के नेताओं का दावा है, इस महारैली में करीब 500 ट्रेक्टर व जिले के प्रत्येक गांव से किसान भाई शामिल होंगें। गणतंत्र दिवस के एक दिन पूर्व निकलने वाली आक्रोशित किसान ट्रेक्टर महारैली को लेकर जिले प्रशासनिक व राजनैतिक हल्कों में काफी चर्चा है।
भारतीय किसान यूनियन के संभागीय अध्यक्ष सेवालाल पटेल ने रडार न्यूज़ से चर्चा में बताया कि भारतीय जनता पार्टी के नेता और गोदी मीडिया लगातार यह भ्रम फैला रहे थे कि, किसान आंदोलन सिर्फ पंजाब और हरियाणा के किसानों का आंदोलन है। जबकि देश के अन्य राज्यों के किसान सरकार के साथ हैं, इस झूठ का पर्दाफाश करने एवं कड़ाके की सर्दी में दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलनरत अपने भाईयों के समर्थन में एकजुटता के साथ आवाज बुलंद करने ट्रेक्टर महारैली निकालने का निर्णय लिया गया।
भारतीय किसान यूनियन के तत्वाधान में 25 जनवरी को पन्ना में आयोजित ट्रेक्टर महारैली का पोस्टर।
किसान नेता सेवालाल पटेल ने बताया कि सोमवार 25 जनवरी को दोपहर 12 बजे जिले भर के ट्रेक्टर पन्ना के पॉलीटेक्निक कॉलिज ग्राउण्ड में एकत्र होंगे। जहाँ किसान विरोधी काले कानूनों पर किसान भाई अपने विचार व्यक्त करेंगे। तत्पश्चात दोपहर 2 बजे पन्ना नगर में ट्रेक्टर रैली निकाली जायेगी। रैली में शामिल सभी किसान ट्रेक्टरों से नवीन कलेक्ट्रेट भवन पहुंचकर वहाँ प्रदर्शन कर अपना ज्ञापन सौंपेंगे।
भारतीय किसान यूनियन के पन्ना जिलाध्यक्ष बसंत लाल पटेल बताया कि सोमवार को होने वाली ट्रेक्टर रैली में जिले भर से 500 ट्रेक्टर शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि समूचे जिले के किसान इन काले कानूनों के विरोध में है और केन्द्र की मोदी सरकार के हठधर्मी रवैये को लेकर उनमें जबरदस्त आक्रोश व्याप्त है। ट्रेक्टर रैली के दौरान किसानों का यह आक्रोश सड़कों पर देखने को मिलेगा।