पार्टी के बहाने से बुलाया फिर कर दी हत्या, सबूत मिटाने शव और बाइक को नहर में फेंका

0
1511
फाइल फोटो।

*     जिले के सीमावर्ती चाँदीपाठी ग्राम का सनसनीखेज़ संतोष केवट हत्याकांड

*     नाबालिग संग किये कुकर्म का भंडाफोड़ होने के डर से किया था क़त्ल

*     पुलिस ने अंधेकत्ल का खुलासा कर प्रथम दृष्ट्या दो नवयुवकों को बनाया आरोपी

*     पीड़ित परिजनों ने एसपी को आवेदन देकर किया दावा वारदात में 5 आरोपी शामिल

पन्ना। (www.radarnews.in) जिले के अजयगढ़ थाना की पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश से लगने वाली सीमा के नजदीक स्थित चाँदीपाठी ग्राम में पिछले माह गुद्दा उर्फ़ संतोष केवट 22 वर्ष के अंधेकत्ल की सनसनीखेज वारदात सामने आई थी। जिसके खुलासे ने लोगों को काफी हैरान कर दिया है। पुलिस के अनुसार गुद्दा ने चाँदीपाठी के ही पुष्पेंद्र केवट को एक नाबालिग के साथ आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। अपने कुकर्म का भंडाफोड़ होने के डर से पुष्पेंद्र ने दोस्त लालखिलवान केवट के साथ मिलकर गुद्दा उर्फ़ संतोष को पार्टी के बहाने से बुलाकर बेरहमी से उसकी हत्या कर दी और सबूत मिटाने के लिए शव को नहर में फेंक दिया था।
इस मामले में पुलिस के द्वारा प्रथम दृष्ट्या दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। वर्तमान में दोनों अभियुक्त न्यायिक अभिरक्षा में जिला जेल पन्ना में निरुद्ध हैं। अजयगढ़ थाना पुलिस ने नाबालिग लड़की की रिपोर्ट पर पुष्पेन्द्र केवट के विरुद्ध बलात्कार का प्रकरण भी पंजीबद्ध किया है। वहीं मृतक गुद्दा के परिजनों ने विगत दिनों पन्ना में पुलिस अधीक्षक को लिखित आवेदन पत्र सौंपकर बताया, उनके बेटे की नृशंस हत्या करने से लेकर शव को नहर में फेंकने की वारदात को दो नहीं बल्कि पांच आरोपियों ने मिलकर योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया था। पीड़ित परिजनों ने शेष 3 व्यक्तियों को भी हत्या के साक्ष्य मिटाने के मामले में आरोपी बनाकर गिरफ्तार करने की मांग की है।

फोन पर बोला नहर पुल पर हूं, बस घर आता हूं

चाँदीपाठी ग्राम में अपने घर के बाहर शोकमग्न खड़े मृतक गुद्दा उर्फ़ संतोष केवट के माता-पिता और बेवा पत्नी रचना।
दिनांक 13 सितंबर 2022 मोटर साइकिल से घर से निकला गुद्दा उर्फ़ संतोष केवट पिता दादू केवट 22 वर्ष रहस्मय परिस्थितियों में लापता हो गया था। परिजनों के पूंछने पर संतोष की पत्नी रचना केवट ने बताया कि वह किसी काम के सिलसिले में करतल जिला बांदा उत्तर प्रदेश जाने की बात कहकर घर से गया था। रात्रि में परिजनों के द्वारा फोन करने पर आखिरी बार हुई बातचीत के दौरान गुद्दा ने बताया था, गांव के नहर पुल के पास आ गया हूँ, बस आता हूँ। लेकिन वह काफी देर तक वापस घर नहीं लौटा। आशंकित पिता दादू केवट ने अपने चचेरे भाई चंद्रपाल, संतोष एवं धन्नी आदि को साथ लेकर रात्रि में ही बेटे की तलाश शुरू की गई। गांव में अन्य जगह खोजबीन करने के बाद जब मध्य रात्रि में नहर पुल के पास जाकर देखा तो शिक्षक रामकुमार केवट, सुरेश व संतोष पिता रामकुमार अपनी मोटर साइकिल में घबराए हुए से दिखे और आवाज देने के बाद भी मौके पर नहीं रुके।

उत्तर प्रदेश के पनगरा में मिला था शव

खोजबीन के दौरान गुद्दा का शव 15 सितंबर को उत्तर प्रदेश के थाना नरैनी अंतर्गत ग्राम पनगरा के पास नहर में मिला। शव की शिनाख्त मृतक के जीजा रामकिशोर केवट एवं परिजनों के द्वारा की गई। शव का पोस्टमार्टम उत्तर प्रदेश के बांदा मेडिकल कॉलेज में हुआ। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतक के सिर में चोट, जबड़े की हड्डी टूटने और अत्याधिक खून बहने के कारण मौत होना बताया। इस घटना पर नरैनी थाना में मर्ग कायम किया गया। थाना नरैनी से 20 सितंबर को मर्ग डायरी थाना अजयगढ़ में असल नंबर पर कायमी हेतु लाई गई। जिस पर अजयगढ़ में असल मर्ग क्रमांक 48/22 धारा 174 जा.फौ. कायम कर मौके पर जांच की गई।

लाठी-डण्डों से हमला कर किया था क़त्ल

मामले की जांच के दौरान मृतक के पिता दादू केवट, मां रज्जी केवट व साक्षी हरि केवट के कथन दर्ज किये गये तो पता चला कि दिनांक 12 सितंबर 2022 को गुद्दा उर्फ़ संतोष केवट ने गांव के ही पुष्पेन्द्र को नाबालिग लड़की के साथ आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। 14 वर्षीय लड़की को अपनी हवश का शिकार बनाने वाले कामांध को यह डर सताने लगा था कि गुद्दा केवट अब किसी भी समय उसके कुकर्म का भंडाफोड़ कर इस बात को गांव में फैला सकता है। आशंकित पुष्पेन्द्र केवट पिता रामकुमार केवट 19 वर्ष ने अपने दोस्त लाल खिलावन पिता मुल्लू केवट 20 वर्ष के साथ मिलकर गुद्दा केवट की हत्या की योजना बनाई। अगले दिन 13 सितम्बर को दोनों ने गुद्दा केवट को पार्टी करने के बहाने शाम करीब 7 बजे गांव के बाहर नहर पुल के पास बुलाया। गुद्दा के अपनी मोटर साइकिल से वहां पहुंचने पर दोनों ने लाठी-डण्डे से ताबड़तोड़ हमला किया और मारकर केन नदी की नहर में फेंक दिया। उसकी मोटर साइकिल भी नहर के पानी में फेंक दिया था।

सींखचों में पहुंचे दोनों हत्यारोपी

गुद्दा उर्फ़ संतोष केवट। (जीवित अवस्था का चित्र)
अनेक साक्ष्यों एवं गवाहों के कथनों के आधार पर प्रथम दृष्ट्या आरोपीगण पुष्पेन्द्र केवट व लालखिलावन केवट के द्वारा गुद्दा केवट की हत्या करना पाए जाने पर दोनों के विरुद्ध थाना अजयगढ़ में धारा 302,34 ताहि का प्रकरण पंजीबध्द कर विवेचना मे लिया गया। अजयगढ़ थाना प्रभारी एवं निरीक्षक हरि सिंह ठाकुर ने घटना की गंभीरता को देखते हुए विगत दिनों दोनों आरोपियों तत्परता से गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया। जहां से उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा जा चुका है।

सबूत मिटाने में इनकी भी संलिप्तता !

मृतक गुद्दा उर्फ़ संतोष केवट की मां रज्जी बाई, पिता दादू केवट एवं अन्य लोगों ने विगत दिनों पन्ना पहुंचकर पुलिस अधीक्षक को लिखित आवेदन देकर दावा किया है, पूरी वारदात को दो नहीं बल्कि पांच आरोपियों ने योजनाबद्ध तरीके से अंजाम दिया था। इनका आरोप है शव को नहर में फेंककर हत्या के सबूत मिटाने में पुष्पेन्द्र केवट, लाल खिलावन केवट के साथ शिक्षक रामकुमार केवट 50 वर्ष, सुरेश पिता मन्नू और संतोष पिता रामकुमार सभी निवासी चाँदीपाठी शामिल थे। पुलिस अधीक्षक से पीड़ित परिजनों ने अपने मृत बेटे को इंसाफ दिलाने की गुहार लगाते हुए शेष 3 व्यक्तियों को हत्या के साक्ष्य मिटाने के मामले में आरोपी बनाकर तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की है।

इनका कहना है –

“संतोष केवट की हत्या के मामले में दो युवकों को साक्ष्य के आधार आरोपी बनाया गया है। प्रकरण की बारीकी से जांच की जा रही है जांच जो भी तथ्य और साक्ष्य निकलकर आयेंगे उसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।”

– हरि सिंह ठाकुर, थाना प्रभारी, अजयगढ़ जिला पन्ना।