आचार संहिता उल्लंघन मामला : BJP विधायक और कलेक्टर के खिलाफ राज्य निर्वाचन आयुक्त से कार्यवाही की मांग

0
762
सामूहिक विवाह कार्यक्रम में भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी के साथ नवविवाहित युगलों को उपहार भेंट करते हुए पन्ना कलेक्टर संजय कुमार मिश्र।

*    कांग्रेस नेताओं ने की लिखित शिकायती, आम आदंमी पार्टी ने सौंपा ज्ञापन

*    आचार संहिता लागू होने के दौरान भाजपा विधायक ने 29 जोड़ों की कराई शादी

*     कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी सहित अन्य अफसर कार्यक्रम में बने मेहमान

*     भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी के साथ नवयुगलों को भेंट किए उपहार

शादिक खान, भोपाल/पन्ना। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश में प्रभावशील त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की आचार संहिता का उल्लंघन करने के गंभीर आरोपों से घिरे पन्ना कलेक्टर और भाजपा विधायक की मुश्किलें बढ़ गई हैं। आचार संहिता प्रभावशील होने के दौरान पवई के भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी पर बनौली कुआंताल में 29 जोड़ों के सामूहिक विवाह का कार्यक्रम बगैर अनुमति के आयोजित करने का आरोप है। इस कार्यक्रम में भाजपा विधायक के साथ मंच साझा करते हुए पन्ना कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी संजय कुमार मिश्र द्वारा नवविवाहित जोड़ों को उपहार भेंट कर आशीर्वाद दिया गया। जिसके बाद से भाजपा विधायक और कलेक्टर दोनों ही विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं। पन्ना से लेकर राजधानी भोपाल तक सुर्ख़ियों में बनें इस मुद्दे को लेकर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के दिग्गज नेता काफी सक्रिय हैं। राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कुआंताल में आयोजित हुए सामूहिक विवाह सम्मलेन की खबर को ट्वीट कर आचार संहिता उल्लंघन मामले में पन्ना कलेक्टर एवं पवई विधायक के खिलाफ तत्काल कार्यवाही करने की मांग की है।
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री जे.पी. धनोपिया ने इस संबंध में राज्य निर्वाचन आयोग भोपाल में लिखित शिकायत दी है। इधर, पन्ना में आम आदमी पार्टी की जिला इकाई के द्वारा ज्ञापन सौंपा गया। इसके आलावा जिला कांग्रेस अध्यक्ष ने एक शिकायती पत्र राज्य निर्वाचन आयुक्त भोपाल के नाम प्रेषित किया है। दोनों ही पार्टियों ने आरोप लगाया है, पन्ना कलेक्टर सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी से प्रभावित होकर कार्य करते हुए पंचायत चुनाव तथा नगरीय निकाय चुनाव की निष्पक्षता को प्रभावित कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में जिले में निष्पक्ष चुनाव होना संभव नहीं है। विपक्षी दलों के द्वारा जिला निर्वाचन अधिकारी संजय कुमार मिश्र को तत्काल पन्ना से हटाने की मांग उठाई है। साथ ही पवई विधायक और पन्ना कलेक्टर के विरुद्ध आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामले में कार्यवाही करने की मांग की है। मामले को तूल पकड़ते देख जिला निर्वाचन अधिकारी पन्ना ने खुद पर लग रहे आरोपों पर सफाई देकर अपनी ओर से वस्तु स्थिति स्पष्ट करने का प्रयास किया है।

विवाह सम्मलेन स्थगित होने से बढ़ गई थी परेशानी

पन्ना के कुआंताल में आचार संहिता का उल्लंघन कर बगैर अनुमति के आयोजित किए गए सामूहिक विवाह कार्यक्रम में उपस्थित लोग।
पन्ना जिले के विधानसभा क्षेत्र पवई अंतर्गत ग्राम पंचायत बनौली में स्थित प्रसिद्द कंकाली माता मंदिर परिसर में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत दिनांक 1 जून 2022 को सामूहिक विवाह सम्मलेन होना था। इसके लिए क्षेत्र के ढाई दर्जन से अधिक नवयुगलों ने पंजीयन कराया, लेकिन इस बीच पंचायत चुनाव के कार्यक्रम का ऐलान होने के साथ ही आदर्श आचरण संहिता लागू हो गई। जिस कारण सामाजिक न्याय विभाग को सामूहिक विवाह सम्मलेन को स्थगित/निरस्त करना पड़ा था। विवाह पूर्व की रस्में शुरू होने के बीच अचानक आचार संहिता लगने की वजह से सम्मलेन स्थगित होने से विवाह के लिए पंजीयन कराने वाले नवयुगल एवं परिजनों की चिंता और बैचेनी बढ़ गई। स्थानीय लोगों की मानें तो सम्मलेन स्थगित होने के पूर्व विवाह रस्में शुरू हो चुकीं थी। वर-वधु को हल्दी चढ़ चुकी थी। शादी के कार्ड बांटे जा चुके थे इसलिए रिश्तेदारों का आना भी शुरू हो गया था। ऐसे में शादी को कैसे टाला जा सकता था। लेकिन सरकारी मदद से वंचित होने की चिंता हुई तो क्षेत्रीय विधायक प्रहलाद लोधी से फ़रियाद की। जिस पर विधायक प्रभावित परिवारों की मदद के लिए आगे आए और अपने स्तर पर वैवाहिक कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया।

वैवाहिक कार्यक्रम के साथ धार्मिक आयोजन

पवई के भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी के नेतृत्व में स्वामी परमानंद कमेटी के सदस्यों ने वैवाहिक कार्यक्रम की व्यवस्थाएं संभालते हुए 29 जोड़ों का सामूहिक विवाह संपन्न कराया। इस कार्यक्रम में पन्ना कलेक्टर संजय कुमार मिश्र सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी बतौर मेहमान उपस्थित थे। इस दौरान एक समय ऐसा भी आया जब कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने भाजपा विधायक के साथ मंच साझा करते हुए नवयुगल को उपहार सामग्री भेंट कर आशीर्वाद दिया। वैवाहिक कार्यक्रम के साथ कंकाली माता मंदिर के जीर्णोद्धार व प्राण-प्रतिष्ठा भी की गई। कार्यक्रम प्रातः 10 बजे से शुरू होकर देर रात्रि तक चला। इसमें सैंकड़ों की संख्या में क्षेत्रवासी शामिल हुए। उधर, इस प्रकरण पर पन्ना जिला कांग्रेस अध्यक्ष शारदा पाठक के द्वारा राज्य निर्वाचन आयुक्त को भेजे गए शिकायती पत्र में यह भी आरोप लगाया है कि, कार्यक्रम के दौरान कलेक्टर ने मंच विधायक की प्रशंसा की गई।

विधायक की अजब-गजब दलील

प्रहलाद लोधी, भाजपा विधायक पवई ।
त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव-2022 की आदर्श आचरण संहिता का खुलेआम उल्लंघन करते हुए सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित करने के संबंध में पत्रकारों ने जब पवई विधायक प्रहलाद लोधी से सवाल पूंछा तो उन्होंने अजब-गजब कुतर्क पेश करते हुए कहा कि- आचार संहिता का उल्लंघन तो तब होता जब चुनाव चिन्ह आवंटित हो जाते। वैसे भी कौन सा मुझे चुनाव लड़ना है। उन्होंने बताया, आचार संहिता लगने के पूर्व ही नवयुगलों ने पंजीयन करा लिया था। विवाह की रस्में भी शुरू हो गई थीं लेकिन अचानक सामूहिक विवाह सम्मलेन स्थगित हो जाने से गरीब परिजन परेशान थे। मुझसे समस्या बताई तो कमेटी की मदद से विवाह संपन्न कराए ताकि गरीब परिवारों को कोई परेशानी न हो। विधायक का मानना है, इसमें आचार संहिता का कोई उल्लंघन नहीं हुआ। न ही कार्यक्रम के जरिए किसी को लाभ पहुँचाने का उद्देश्य था। चुनाव में किसी को लाभ तो तब होता जब चुनाव चिन्ह आवंटित हो जाते। गौरतलब होकि, पवई एसडीएम कुशल सिंह गौतम ने पत्रकारों से चर्चा में बताया, स्थानीय मंदिर कमेटी की मांग पर मेरे द्वारा सिर्फ सिर्फ पूजा-अर्चना एवं प्रसाद वितरण कार्यक्रम की अनुमति दी गई थी। वैवाहिक कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति प्रदान नहीं की गई थी। एसडीएम की टिप्पणी से स्पष्ट है, आदर्श आचार संहिता प्रभावशील होने के दौरान भाजपा विधायक द्वारा सामूहिक विवाह सम्मलेन बगैर अनुमति के आयोजित किया गया था।

दिग्विजय बोले : कलेक्टर और विधायक पर तत्काल हो कार्यवाही

दिग्विजय सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री एवं राज्य सभा सांसद।
पंचायत चुनाव की आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करते हुए सामूहिक विवाह सम्मलेन आयोजित करने वाले भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी और इस कार्यक्रम में शामिल हुए पन्ना कलेक्टर संजय कुमार मिश्र के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के नेता आक्रामक तेवर में नजर आ रहे हैं। कांग्रेस के सीनियर लीडर एवं राज्यसभा संसद दिग्विजय सिंह ने आचार संहिता के उल्लंघन से जुड़ी एक अख़बार की खबर को ट्वीट करते हुए पन्ना कलेक्टर और विधायक के खिलाफ तत्काल कार्यवाही करने की मांग की है। उन्होंने लिखा, “मध्यप्रदेश में स्थानीय निकायों के चुनाव के कारण आचार संहिता लगी है। पन्ना में खुले आम आचार संहिता का उल्लंघन हुआ है। राज्य निर्वाचन आयोग को ज़िला कलेक्टर जो कि ज़िला निर्वाचन अधिकारी हैं व विधायक जी पर तत्काल कार्रवाई करना चाहिए।”
मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं चुनाव आयोग कार्य प्रभारी जे.पी. धनोपिया द्वारा राज्य निर्वाचन आयोग में की गई शिकायत की कॉपी।
वहीं मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री एवं चुनाव आयोग कार्य प्रभारी जे.पी. धनोपिया द्वारा दिनांक 3 जून 2022 को राज्य निर्वाचन आयुक्त को इस मामले की लिखित शिकायत प्रेषित की गई। श्री धनोपिया ने की मांग है कि, पचायत चुनाव में प्रभावशील आदर्श आचार संहिता का सख्ती से पालन कराया जाए तथा भाजपा विधायक प्रहलाद लोधी व पन्ना जिला निर्वाचन अधिकारी संजय कुमार मिश्र के खिलाफ आदर्श आचार संहिता उल्लंघन का प्रकरण दर्ज कर कार्यवाही की जाए। जिससे प्रदेश में पंचायत एवं नगरीय निकाय चुनाव निष्पक्ष एवं स्वतंत्र रूप से संपन्न हो सकें।

इनका कहना है-

“कुछ माह पूर्व मुख्यमंत्री जी का बनौली आगमन हुआ था, उस दौरान क्षेत्र के लोगों ने सामूहिक विवाह सम्मलेन आयोजित करने की मांग की थी। जिसे दृष्टिगत रखते हुए दिनांक 1 जून को विवाह सम्मलेन सामाजिक न्याय विभाग द्वारा आयोजित किया गया था लेकिन इसके पूर्व पंचायत चुनाव की आचार संहिता लग जाने के कारण सम्मलेन को निरस्त कर दिया था। बाद में पवई विधायक एवं क्षेत्र के लोगों द्वारा सम्मलेन अपने स्तर पर आयोजित किया गया। मैं तो आदर्श आचार संहिता का पालन कराने एवं कानून व्यवस्था देखने के उद्देश्य से वहां गया था। इस कार्यक्रम में सभी दलों के नेतागण एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे हैं। नवयुगलों के परिजनों के द्वारा मुझसे आग्रह किया गया कि मैं वर-वधु को आशीर्वाद दूँ, उनके आत्मीय आग्रह को मैं अस्वीकार नहीं कर सका। इसे राजनैतिक नजरिए से नहीं देखा जाना और मेरी निष्ठा पर बेवजह सवाल उठाना अनुचित है। इस मामले की जो भी शिकायतें आई हैं उनकी जांच जिला पंचायत सीईओ कर रहे हैं।”

– संजय कुमार मिश्र, कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी, पन्ना।