गुड न्यूज़ : बहुप्रतीक्षित ट्रांसपोर्ट नगर की देवेन्द्रनगर को मिली सौगात, मुख्यमंत्री अधोसंरचना मद से 4 करोड़ लागत में होगा निर्माण

0
878
फाइल फोटो।

* 10 एकड़ भूमि पर बनेगा सर्वसुविधायुक्त ट्रांसपोर्ट नगर

* टीन शेड के नीचे 250 ट्रकों की एक साथ हो सकेगी पार्किंग

* 200 दुकानें, ट्रकों की मरम्मत के लिए वर्कशाप, प्रतीक्षालय भी बनेगा

* देवेंद्रनगर में सड़कों पर ट्रकों की पार्किंग से होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में आएगी कमी

राजेन्द्र कुमार लोध, रमेश अग्रवाल- पन्ना/देवेंद्रनगर।(www.radarnews.in) जिले के देवेन्द्रनगर कस्बा से एक अच्छी खबर आई है। स्थानीय लोगों के द्वारा लम्बे समय से की जा रही ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण की मांग पूरी हो चुकी है। बहुप्रतीक्षित ट्रांसपोर्ट नगर का निर्माण कार्य देवेन्द्रनगर के समीप विक्रमपुर तिराहा के किनारे स्थित 10 एकड़ भूमि पर 4 करोड़ की लागत से कराया जायेगा। आवश्यक औपचारिकताएं पूर्ण होने पर लगभग छह माह के अंदर इसका निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। सर्वसुविधायुक्त ट्रांसपोर्ट नगर के एक साल में मूर्तरूप लेने की उम्मीद है। इसके निर्माण से देवेन्द्रनगर क़स्बा के अंदर राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमाँक-39 के दोनों तरफ ट्रकों की पार्किंग के कारण होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में कमी आएगी और नगर के अंदर आवागमन बाधित होने की समस्या से भी निजात मिल जाएगी। वहीं नगर परिषद् देवेंद्रनगर के लिए ट्रांसपोर्ट नगर का निर्माण कार्य लाभ का धंधा साबित होगा। इससे नगरीय निकाय को प्रतिवर्ष करीब 25 लाख रुपए की आय होगी।
विक्रमपुर तिराहा के समीप प्रस्तावित ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण हेतु भूमि का कब्ज़ा हस्तान्तरण की कार्रवाई हेतु स्थल पर मौजूद तहसीलदार दीपा चतुर्वेदी, सीएमओ मेहमूद हसन एवं उपयंत्री एम.एस. बुन्देला।
उल्लेखनीय है कि पन्ना जिले के देवेंद्रनगर क़स्बा में लगभग 500-700 ट्रक है। राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-39 किनारे पन्ना-सतना के बीच स्थित इस छोटे से क़स्बा में ट्रांसपोर्ट नगर न होने से ट्रकों की पार्किंग राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ होती है। इसके कारण देवेंद्रनगर में जहां आए दिन सड़क दुर्घटनाएं होतीं हैं वहीं नगर के अंदर एनएच का ट्रैफिक भी बुरी तरह बाधित रहता है। नगर के अंदर ट्रकों की पार्किंग से होने वाली इन ससमस्यों के स्थाई समाधान के लिए स्थानीय लोगों के द्वारा पिछले एक दशक से ट्रांसपोर्ट नगर की मांग प्रमुखता से की जा रही थी।
इसके सम्बंध कई बार विभिन्न राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों एवं आम नागरिकों के द्वारा क्षेत्रीय जनप्रतिनिधयों तथा प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन सौंपे गए। लम्बे चले संघर्ष के परिणामस्वरूप आखिरकार देवेंद्रनगर वासियों की ट्रांसपोर्ट नगर की स्थापना से जुड़ीं मांग पर शासन ने गंभीरता पूर्वक विचार करते हुए इसे उचित और आवश्यक मानकर स्वीकृति प्रदान कर दी है। ट्रांसपोर्ट नगर निर्माण को स्वीकृति मिलने की खबर आने के बाद से देवेन्द्रनगर के वाशिंदों में ख़ुशी की लहर व्याप्त है।

नगर परिषद को मिला भूमि का कब्ज़ा

प्रस्तावित निर्माण स्थल की नापजोख के पूर्व एवं राजस्व विभाग के दस्तावेजों का अवलोकन करते हुए मुख्य नगर पालिका अधिकारी मेहमूद हसन एवं उपयंत्री एम.एस. बुन्देला।
बहुप्रतीक्षित ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण की स्वीकृति मिलने पर नगर परिषद देवेंद्रनगर ने जनभावनाओं को दृष्टिगत रखते हुए इसे मूर्तरूप देने के लिए आवशयक कार्रवाई तेजी से शुरू कर दी है। देवेंद्रनगर से करीब 2 किलोमीटर दूर विक्रमपुर तिराहा के किनारे जिस स्थल पर ट्रांसपोर्ट नगर का निर्माण कार्य प्रस्तावित है, उस 10 एकड़ भूमि का कब्ज़ा नगर परिषद के मुख्य नगर पालिका अधिकारी मेहमूद हसन ने तहसीलदार देवेंद्रनगर दीपा चतुर्वेदी से प्राप्त कर लिया है। भूमि के कब्जे के हस्तांतरण की कार्रवाई स्थल पर जाकर की गई।
नगर परिषद देवेंद्रनगर के मुख्य नगर पालिका अधिकारी मेहमूद हसन ने जानकारी देते हुए बताया कि इस भूमि के एवज में नगरीय निकाय के द्वारा 18 लाख रुपए का प्रीमियम जमा कराया गया था, कई वर्षों के प्रयास के पश्चात निकाय को भूमि का कब्ज़ा प्राप्त हुआ है। श्री हसन ने एक सवाल के जबाव में कहा कि ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण कार्य के महत्व का आंकलन आप उसकी लागत से ना करें बल्कि देवेंद्रनगर के नागरिकों के नजरिए से इसकी आवश्यकता को देखें। ट्रांसपोर्ट नगर की बहुप्रतीक्षित सौगात का मिलना स्थानीय लोगों के लिए वाकई बड़ी उपलब्धि है। क्योंकि इसके निर्माण से उनकी ज्वलंत समस्या का स्थाई समाधान हो संभव हो सकेगा। वहीं इससे निकाय को प्रतिवर्ष 25 लाख रुपए की बड़ी आमदनी होगी।

ट्रांसपोर्ट नगर में मिलेंगी ये सुविधाएं

देवेन्द्रनगर के बहुप्रतीक्षित ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण हेतु प्रस्तावित साइट प्लान।
नगर परिषद देवेंद्रनगर के उपयंत्री एम.एस. बुन्देला ने प्रस्तावित ट्रांसपोर्ट नगर निर्माण के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि इसका निर्माण कार्य 4 करोड़ की लगत से मुख्यमत्री अधोसंरचना मद, निकाय निधि एवं दुकानों से प्राप्त प्रीमियम की राशि से छह माह के अंदर शुरू कराया जाएगा। इसके लिए सभी आवश्यक औपचारिकताओं की पूर्ती की जा रही है। उपयंत्री श्री बुन्देला ने चर्चा के दौरान बताया कि ट्रांसपोर्ट नगर में 200 दुकानें, टीन शेड के नीचे 250 ट्रकों की एक साथ पार्किंग की सुविधा, ट्रकों की मरम्मत के लिए वर्कशॉप, प्रतीक्षालय, कैंटीन, पानी की टंकी, विद्युत व्यवस्था, सुलभ कॉम्पलेक्स एवं चौकीदार आवास आदि का निर्माण कराया जाएगा।
उन्होंने बताया कि ट्रांसपोर्ट नगर का जो प्राथमिक प्लान बनाया गया है उसे अंतिम रूप देने के लिए निकाय प्रशासक से कंसल्टेंट की नियुक्ति के सम्बंध में आवश्यक चर्चा की गई है। अगर सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो निर्माण कार्य की टेण्डर प्रक्रिया पूर्ण होने के लगभग एक वर्ष बाद ट्रांसपोर्ट नगर मूर्तरूप ले लेगा।