सेवानिवृत्त होने पर प्रशस्ति पत्र एवं स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मानित

0
529
वरिष्ठ उपयंत्री के.पी. नामदेव के सेवानिवृत्त होने पर उन्हें फूलमाला पहनाकर और शाल-श्रीफल भेंट कर भावभीनी विदाई देते जल संसाधन विभाग के अधिकारी-कर्मचारीगण।

जल संसाधन संभाग पन्ना के वरिष्ठ उपयंत्री केशव प्रसाद नामदेव सेवानिवृत्त हुए

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) जल संसाधन संभाग पन्ना के वरिष्ठ उपयंत्री केशव प्रसाद नामदेव 31 मार्च 2022 को अपनी अधिवार्षिकीय आयु पूर्ण कर सेवानिवृत्त हो गए। इस अवसर पर जल संसाधन कार्यालय पन्ना में कार्यक्रम आयोजित कर विभागीय अधिकारियों-कर्मचारियों ने उन्हें भावभीनी विदाई दी। कार्यक्रम में जल संसाधन मण्डल छतरपुर के अधीक्षण यंत्री धीरेन्द्र कुमार खरे, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन संभाग पन्ना सतीश शर्मा, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन संभाग पवई उमा गुप्ता सहित विभागीय अधिकारियों-कर्मचारियों ने वरिष्ठ उपयंत्री के.पी. नामदेव को पुष्पगुच्छ एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। इस अवसर श्रीमती नामदेव भी उपस्थित रहीं।
जल संसाधन मंडल छतरपुर के अधीक्षण यंत्री धीरेन्द्र कुमार खरे व कार्यपालन यंत्री पन्ना सतीश शर्मा के द्वारा उपयंत्री श्री नामदेव को प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया गया। जिसमें उल्लेख किया गया है कि, केशव प्रसाद नामदेव आत्मज रामरतन नामदेव मूल निवास हटा जिला दमोह 2 दिसंबर 1983 को उपयंत्री के पद पर नियुक्ति के पश्चात तवा परियोजना संभाग इटारसी, जल संसाधन विभाग दमोह, महान नहर संभाग सीधी एवं जल संसाधन संभाग पन्ना में अपने पद एवं दायित्व का निर्वहन करते हुए सेवानिवृत्त हो रहे हैं। श्री नामदेव ने इस अवधि में विभिन्न सिंचाई परियोजनाओं के कार्य पूर्ण दक्षता, लगन एवं निष्ठा से शासकीय हित में निष्पादित किए हैं। उन्होंने सदैव अपने अधिकारियों एवं सहयोगियों के प्रति सदैव पूर्ण सहयोग एवं सामंजस्य स्थापित करते हुए विषम परिस्थितियों में साथ देते हुए सराहनीय कार्य किया है।
विदाई समारोह को संबोधित करते हुए जल संसाधन विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों ने वरिष्ठ उपयंत्री के.पी. नामदेव के सहज-सरल, विनम्र एवं सहयोगी स्वाभाव की प्रशंसा की साथ ही शासकीय सेवा से निवृत्त होने के पश्चात जीवन की नई शुरुआत के लिए शुभकामनाएं देकर उनके अच्छे स्वास्थ्य और दीर्घायु के लिए कामना की है। कार्यक्रम के अंत में वरिष्ठ उपयंत्री श्री नामदेव ने शासकीय सेवा से जुड़े अपने रोचक अनुभव साझा किये। सेवाकाल में मिले स्नेह व सहयोग के लिए सभी का हृदय से आभार व्यक्त किया। उन्होंने सभी उपस्थित जनों को आश्वस्त किया कि, मैं शासकीय सेवा से निवृत्त हुआ हूँ लेकिन आप सभी लोगों से जीवन पर्यन्त जीवंत सम्पर्क कायम रखूँगा।