IPL सट्टा : वर्चुअल करेन्सी से ऑनलाइन क्रिकेट सट्टा खिलाने वाले 6 सटोरियों को पुलिस ने दबोंचा

0
978
पुलिस के द्वारा पकड़े गए सटोरिए एवं उनसे जप्त हुए मोबाइल फोन।
  •   पन्ना कोतवाली थाना पुलिस ने की दो महत्वपूर्ण कार्रवाई
  •  सटोरियों से 15 हजार नकद रुपए, 23 लाख क्वाइन की वर्चुअल राशि जप्त

  •  9 लाख रुपये के लेन-देन के दस्तावेज और 6 मोबाइल फोन भी मिले

  •  अवैध लेन-देन के दस्तावेज पुलिस के हाथ लगने से सट्टा खिलाने और खेलने वालों में मची खलबली

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) आईपीएल 2020 को शुरू हुए करीब एक माह गुजरने के बाद पन्ना पुलिस ने क्रिकेट सट्टा के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करते हुए दो प्रकरणों में 6 सटोरियों को गिरफ्तार किया है। पन्ना के पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी के निर्देश पर क्रिकेट सट्टा के खिलाफ कार्रवाई को अंजाम दिया गया। “देर आए पर दुरुस्त आए” की तर्ज पर की गई इस कार्रवाई से ऑनलाइन क्रिकेट सट्टा खिलाने और खेलने वालों में जबरदस्त हड़कंप मचा है। इसकी बड़ी वजह पकड़े गए सटोरियों से 9 लाख रुपये के लेन-देन के दस्तावेज मिलना और उनके 6 मोबाइल फोन जप्त होना है। पुलिस ने क्रिकेट सट्टा के समूचे नेटवर्क का पता लगाने के लिए जप्तशुदा दस्तावेजों के आधार पर संदिग्ध लेन-देन वाले खातों की जानकारी लेकर संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ अग्रिम कार्रवाई करने की बात कही है। पुलिस की कार्यशैली को देखते हुए इस ऐलान के बाद क्रिकेट सट्टा से किस्मत चमकाने में लगे सटोरियों, उनके एजेण्टों एवं सट्टा खेलने वालों की धड़कनें तेज हो गई हैं। जानकारों का मानना है, अगर ईमानदारी से अवैध लेन-देन कॉल डिटेल आदि की जांच हुई तो कुछ अन्य लोग भी इस कार्रवाई की जद में आ सकते हैं।

पहली कार्रवाई –

कोतवाली थाना पुलिस की एक टीम ने मुखबिर की सूचना पर बीते दिवस पन्ना में स्टेट बैंक के बगल में स्थित एक घर में संचालित सट्टा की गद्दी पर छापामार कार्रवाई करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस का दावा है आरोपियों को सट्टा खिलाते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया। जिनमें अशोक मिश्रा निवासी स्टेट बैंक के पास पन्ना, अभिषेक जड़िया उर्फ भईया जड़िया निवासी जैन मन्दिर के पास बड़ा बाजार पन्ना, अभिषेक खऱे उर्फ रानू खरे निवासी बेनीसागर मोहल्ला पन्ना शामिल हैं। पूंछतांछ में अशोक मिश्रा ने बताया कि उसने आईपीएल सट्टा खिलाने के आई.डी. अभिषेक जड़िया उर्फ भइया जड़िया से बनवाई थी। भईया जड़िया ने उसे व्हाट्सएप के माध्यम आईडी और पासवर्ड भेजा था। इस आईडी से ही अशोक क्रिकेट सट्टा हार जीत के दांव लगाता रहा है। उल्लेखनीय है कि ऑनलाइन खेले जाने वाले क्रिकेट सट्टा में डिजिटल करेन्सी अर्थात वर्चुअल करेन्सी के जरिए दांव लगाए जाते हैं। जिसमें 1 रूपये की कीमत 1 क्वाइन वर्चुअल एमाउण्ट (आभासी राशि) के बराबर होती है।

अवैध लेन-देन की मिली जानकारी

अशोक मिश्रा ने सट्टा खिलवाने के लिए भईया जड़िया से ही पूर्व में 5 लाख रूपये के क्वाइन (डिजिटल करेन्सी) खरीदे थे। वर्तमान में उसके पास 381752 क्वाइन का वर्चुअल एमाउण्ट (डिजिटल करेन्सी) शेष है, जिससे वह सट्टा खिलवा रहा था। अभिषेक उर्फ़ रानू खरे ने भी भइया जड़िया से ही आईडी बनवाकर 3 लाख रूपये के क्वाइन (डिजिटल करेन्सी ) खऱीदे थे। वर्तमान में उसके पास 202470 क्वाइन का वर्चुअल एमाउण्ट (डिजिटल करेन्सी) शेष है। जोकि रानू के मोबाइल पर उपलब्ध है। वहीं मुख्य सटोरिए अभिषेक उर्फ़ भईया जड़िया ने पुलिस को बताया कि वह मोबाइल के माध्यम से सट्टा खिलवाता है। उसके पास वर्तमान में वर्चुअल एमाउण्ट 1465839 क्वाइन उपलब्ध है। भईया ने बताया कि उसने अपनी मास्टर आईडी से शहर में अपने एजेण्टों की आईडी बनाई थी। वह अपनी आईडी से ही क्वाइन बैलेंस भेजता था। उसने अभिषेक उर्फ़ रानू व अशोक मिश्रा को क्वाइन बेंचने की बात कबूल की है। पकड़े गए तीनों सटोरियों से पुलिस ने कुल 9900 रूपये नगद तथा 2051061 रूपये का वर्चुल एमाउण्ट जप्त किया। इसके आलावा आरोपियों के मोबाइल के स्क्रीन शॉट से करीब 5-6 लाख रूपये के अवैध लेन-देन के हिसाब जानकारी प्राप्त हुई है।

दूसरी कार्रवाई –

पुलिस टीम ने दूसरी कार्रवाई को पन्ना में गल्ला मण्डी के पीछे टिकुरिया मोहल्ला में अंजाम दिया है। जहां सट्टा खिलाने के आरोप में रिजवान राईन निवासी कटरा मोहल्ला पन्ना, अजहर खान निवासी रानीगंज मोहल्ला पन्ना एवं शिवम कुन्डू निवासी आगरा मोहल्ला पन्ना को गिरफ्तार किया गया। पूंछतांछ में रिजवान ने बताया कि वह उसने आईपीएल सट्टा खिलवाने के लिए अपने मोबाइल पर आईडी बनवाई थी। उसने सट्टा के दांव लगवाने के लिए 1 लाख रुपये के वर्चुअल क्वाइन खरीदे थे। वर्तमान में उसके पास 25570 क्वाइन का वर्चुअल एमाउण्ट (डिजिटल करेन्सी) शेष बची थी जिससे वह सट्टा खिलवाता था। इसी प्रकार अजहर ने भी अपने मोबाइल में आई.डी बनवाकर सत्ता खिलवाने के लिए 20 हजार रूपये के क्वाइन खऱीदना बताया। जिसमें से 4050 क्वाइन का वर्चुअल एमाउण्ट (डिजिटल करेन्सी) शेष होना पाया गया। वहीं शिवम कुन्डू ने भी अपने मोबाइल पर आई.डी. बनवाकर 20 हजार रूपये के क्वाइन खरीदे थे। अब 1656 क्वाइन का वर्चुअल एमाउण्ट ( डिजिटल करेन्सी) ही उसके पास शेष है। शिवम इसी राशि से सट्टा खिलवा रहा था।

आरोपियों के खिलाफ दर्ज हुआ प्रकरण

सटोरियों को गिरफ्तार करने वाली पन्ना कोतवाली थाना की पुलिस टीम एवं निरीक्षक अरुण सोनी।
पुलिस ने पकड़े गए तीनों आरोपियों से कुल 5000 रूपये नगद, 31276 रूपये का वर्चुल एमाउण्ट (डिजिटल करेन्सी) जप्त किया गया एवं सटोरियों के स्क्रीन शॉट से करीब 2-3 लाख रूपये के अवैध लेन-देन के हिसाब की जानकारी प्राप्त की। दोनों प्रकरण में आरोपियों के विरूद्ध सट्टा अधिनियम के तहत अपराध क्रमाँक 833/20 एवं 834/20 कायम कर विवेचना में लिया गया है। कोतवाली थाना पन्ना पुलिस ने आगे भी इसी तरह की कार्रवाई करने की बात कही है। सटोरियों की धरपकड़ करने में थाना प्रभारी कोतवाली निरीक्षक अरूण सोनी, उप निरीक्षक बलबीर सिंह, प्रधान आरक्षक रामकृष्ण पाण्डेय, आरक्षक दीपप्रकाश, प्रदीप पाण्डेय, बीरेन्द्र कुमार, रामपाल बागरी, राजेश सिंह, लक्ष्मी यादव, बृहमदत्त शुक्ला, विनय कुमार महिला आरक्षक निधी सिंह आरक्षक चालक रवि खरे एवं सायबर सेल टीम का विशेष योगदान रहा । पुलिस अधीक्षक पन्ना मयंक अवस्थी ने उक्त कार्रवाई की सरहना करते हुए सटोरियों को पकड़ने वाली पुलिस टीम को नगद पुरूस्कार से पुरुस्कृत करने की घोषणा की है।