“जिज्जी” आपसे हाथ जोड़कर विनती है- “दबंग भू-माफिया के कहर से हमें बचा लो, पहले जमीन हड़प ली अब पुलिस से करवा रहा प्रताड़ित”

0
957
पूर्व मंत्री सुश्री कुसुम महदेले ने नयापुरा मुड़िया पहाड़ के झुग्गीवासियों के संबंध में क्षेत्रीय सांसद वीडी शर्मा एवं कोतवाली थाना टीआई से मोबाइल पर अपने चिरपरिचित अंदाज में बात की गई।

* नयापुरा मुड़िया पहाड़ के वाशिंदों ने पूर्व मंत्री कुसुम महदेले से लगाई गुहार

* पानी भरने लेकर झुग्गीवासियों का भाजपा नेता के कर्मचारी से हुआ था विवाद

* झुग्गीवासियों ने झूठी शिकायत कर पुलिस से प्रताड़ित कराए जाने का लगाया आरोप

* भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद ने फोन पर बात कर कहा जमीन के विवाद से मेरा कोई लेना-देना नहीं

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) मध्य प्रदेश के पन्ना जिला मुख्यालय से सटी ग्राम पंचायत मनौर के ग्राम नयापुरा-मुड़िया पहाड़ की राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमाँक-39 के दोनों तरफ स्थित करीब 15 एकड़ बेशक़ीमती भूमि से जुड़ा विवाद लगातार गहराता जा रहा है। इस भूमि पर कई पीढ़ियों से काबिज गरीब झुग्गीवासियों ने भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं क्षेत्रीय सांसद विष्णु दत्त शर्मा के करीबी माने-जाने वाले युवा नेता अंकुर त्रिवेदी पर आरोप लगाया है कि स्थानीय राजस्व विभाग के अमले से सांठगांठ कर तथ्यों को छिपाते हुए उसने राजनैतिक रसूख के दम उक्त भूमि की अपने नाम पर रजिस्ट्री और नामांतरण कराया लिया। कई दशकों के कब्जे वाली भूमि को कथित तौर पर हेराफेरी कर हड़पने से सैंकड़ों गरीब परिवारों सामने बेघर होने की नौबत आ गई है। भाजपा नेता के द्वारा जमीन खाली करने की धमकी दिए जाने के कारण अपना आशियाना उजड़ने को लेकर हैरान-परेशान गरीब झुग्गीवासी पिछले कुछ दिनों से आंदोलित हैं।
पन्ना के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग- 39 किनारे स्थित मुड़िया पहाड़ की विवादित भूमि जिस पर गरीब तबके के सैंकड़ों लोग कई पीढ़ियों रह रहे हैं।
सुर्ख़ियों में बने इस मामले में दोनों तरफ से आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। जिसके चलते इस बेशक़ीमती भूमि की क्रय-विक्रय और नामांतरण की पूरी प्रक्रिया से जुड़े कई चौंकाने वाले तथ्य हर दिन उजागर हो रहे हैं। पन्ना जिले के प्रशासन, जनप्रतिनिधियों, सत्ता पक्ष-विपक्ष के राजनेताओं, मीडिया, सामाजिक कार्यकर्ताओं और एक्टिविस्ट का इम्तिहान ले रहे इस ज्वलंत मुद्दे ने अब तक विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े कई लोगों की भूमिका को सबके सामने ला दिया है। सोशल मीडिया पर सक्रिय कतिपय एजेण्डा छाप रायचन्द बतोलेबाजों की तो इस मुद्दे पर जैसे घिग्घी ही बंध ही गई है। बहरहाल, करोड़ों रुपए के मूल्य वाली प्राइम लोकेशन की इस जमीन के स्वत्व और कब्जे की कानूनी लड़ाई को अब कई स्तर पर लड़ा जा रहा है। पन्ना से लेकर राजधानी भोपाल तक सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी के खेमे में खलबली मचाने वाले इस बहुचर्चित मसले पर शुक्रवार की शाम अचानक पुलिस की इंट्री के बाद आज जो कुछ हुआ उसमें निहित सियासी संकेत के मायने बहुत गहरे हैं।

विवाद को लेकर अपना-अपना पक्ष

मुड़िया पहाड़ की झुग्गी बस्ती के लोग अपनी आपबीती सुनाते हुए।
भाजपा नेता अंकुर त्रिवेदी की प्रेसवार्ता के जवाब में शुक्रवार 18 सितंबर को दोपहर में नयापुरा मुड़िया पहाड़ के वाशिंदों ने प्रेसवार्ता कर अपना पक्ष मीडिया के समक्ष रखा। इसके कुछ घण्टे बाद शाम को पानी भरने को लेकर कथित तौर पर विवाद होने की सूचना मिलने पर पन्ना कोतवाली थाना के निरीक्षक अरुण सोनी दलबल के साथ मुड़िया पहाड़ पहुंच गए। भाजपा नेता के खिलाफ संघर्ष की अगुवाई कर रहे झुग्गी बस्ती निवासी युवा बृजेश गौतम, रामकिशुन शर्मा और प्रदीप शर्मा के घर पहुंचकर पुलिस ने मौके पर मिले परिजनों से उनके संबंध में जानकारी प्राप्त की तो पता चला कि वे कहीं घूमने निकल गए हैं।
नगर निरीक्षक ने फोन पर चर्चा में बताया कि अंकुर के निर्माणाधीन मकान में लगी बोरिंग से पानी भरने को लेकर वहाँ कार्यरत कर्मचारी से बस्ती के लोगों का कुछ विवाद हुआ जिसकी सूचना श्रीमति गंगा शर्मा द्वारा पुलिस को दी गई थी, जिसे गंभीरता से लेते विवाद को बढ़ने से रोकने के लिए पुलिस मौके पर गई थी। हमने दोनों पक्षों को शांति और संयम बनाए रखने एवं मकान मालिक अंकुर त्रिवेदी की आपत्ति के चलते उनके निजी बोर से पानी ने भरने की समझाइश दी है। मजेदार बात यह है कि गंगा शर्मा इस संबंध में पुलिस में स्वयं के द्वारा किसी तरह की लिखित या मौखिक सूचना देने से साफ़ इंकार कर रही हैं।
भाजपा नेता अंकुर त्रिवेदी।
उधर, भाजपा नेता अंकुर त्रिवेदी ने मोबाइल पर हुई बातचीत में बताया कि उनके निर्माणाधीन मकान में पुताई कर रहे श्रमिक भरत प्रजापति के साथ बृजेश गौतम, रामकिशुन शर्मा और प्रदीप शर्मा द्वारा गाली-गलौंज की गई। उक्त लोग जबरन घर के अंदर घुस आए और भरत से बोरिंग चालू करने के लिए कहने लगे। भरत के मना करने पर उसके साथ गाली-गलौंज कर धमकी दी गई। अंकुर ने बताया कि मैनें इस घटनाक्रम की सूचना पन्ना पुलिस अधीक्षक को दी थी तब उनके द्वारा पुलिस को तफ्तीश के लिए मौके पर भेजा गया था। वहीं जिन युवकों के ऊपर विवाद करने का आरोप है वे इस घटना को मनगढ़ंत और फर्जी बताते हुए कह रहे हैं कि राजनैतिक रसूख के दम पर पुलिस के जरिए प्रताड़ित कराकर उन्हें शांत कराने का यह षड्यंत्र मात्र है। ताकि दूसरे झुग्गीवासियों की तरह हम भी डरकर इस जमीन को छोड़कर चले जाएं। उन्होंने बताया कि पूर्व में पुलिस अधीक्षक को आवेदन पत्र देकर हमने पहले ही यह आशंका जताई थी कि हमारी झूटी रिपोर्ट हो सकती है।

आपने गुण्डों-माफियाओं को कभी पनपने नहीं दिया

प्रभावित झुग्गी वासियों के दस्तावेजों को गौर से देखते हुए पूर्व मंत्री सुश्री कुसुम सिंह महदेले।
पानी भरने के विवाद की कथित तौर पर फर्जी रिपोर्ट को लेकर पन्ना कोतवाली थाना पुलिस की भूमिका के प्रति आशंकित नयापुरा मुड़िया पहाड़ के वाशिन्दे शनिवार 19 सितंबर की सुबह पूर्व मंत्री एवं भाजपा की दिग्गज नेत्री सुश्री कुसुम सिंह महदेले के निज निवास सफरबाग पहुँच गए। बृजेश गौतम और गंगा शर्मा उन्हें पूरे घटनाक्रम और इसके केन्द्र में स्थित जमीन के विवाद से अवगत करा ही रहे थे कि तभी मीडियाकर्मी भी वहाँ पहुंच गए। झुग्गी वासियों ने सुश्री महदेले से कहा कि आपने लंबे समय तक पन्ना का प्रतिनिधित्व किया है, आपके रहते हुए हम गरीबों को कभी कोई समस्या नहीं आई। लेकिन आपके पद में न रहने से आज हमें एहसास हो रहा है कि पन्ना में कितनी अराजकता फ़ैल चुकी है। आपने कभी गुण्डों-माफियाओं को पनपने तक नहीं दिया। मगर, आज सब उल्टा हो रहा है। नेता-माफिया और भ्रष्ट अफसरों ने मिलकर पहले तो हमारी जमीन हड़प ली अब उल्टा हमें झूठे प्रकरण में जेल भेजने की साजिश की जा रही है।
झुग्गीवासियों ने अपना दुखड़ा सुनाते हुए आरोप लगाया कि कथित तौर सांसद वीडी शर्मा से नजदीकी की आड़ लेकर और उनके नाम की धौंस जमाकर अंकुर ने हमारा तो जीना ही दूभर कर दिया है। बेवश और असहाय महिलाओं ने गुहार लगाते हुए कहा कि “जिज्जी” आपसे हाथ जोड़कर विनती है- “दबंग भू-माफिया के कहर से हमें बचा लो, पहले हमाई जमीन हड़प लई अब पुलिस से प्रताड़ित करवा रहो है।”

जो कुछ हो रहा है वह अच्छा नहीं है

कुछ दिन पूर्व पन्ना में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं खजुराहो सांसद वीडी शर्मा को मुड़िया पहाड़ के रहवासियों ने अपनी समस्या सुनाई थी।
गरीबों को गिड़गिड़ाते, मदद के लिए गुहार लगाते हुए देख पूर्व मंत्री सुश्री महदेले बैचेन हो उठीं और उन्होंने तुरंत भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं क्षेत्रीय सांसद विष्णु दत्त शर्मा से मोबाइल पर बात करते हुए बड़े ही अफ़सोस के साथ कहा कि मुड़िया पहाड़ की जमीन के मामले में आपका नाम उछलने से मुझे अच्छा नहीं लगा। उन्होंने सीनियर होने के नाते बातों ही बातों में सार्वजानिक जीवन में सुचिता और नैतिकता के उच्चतम मानदण्डों को कायम रखने की परोक्ष रूप से सलाह देते हुए श्री शर्मा की झुग्गीवासियों से भी बात कराई। इस दौरान सांसद वीडी शर्मा ने बृजेश गौतम से हुई बातचीत में स्पष्ट किया कि नयापुरा-मुड़िया पहाड़ की जमीन से उनका दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं है। मेरे लिए पार्टी के सभी कार्यकर्ता एक सामान है मैनें कभी किसी को भी अनुचित कार्य करने के लिए न तो संरक्षण दिया है और न ही कभी दूंगा।
सड़क के दूसरी तरफ स्थित नयापुरा बस्ती निर्मित मकान इस बस्ती की रजिस्ट्री और नामांतरण भाजपा नेता अंकुर त्रिवेदी के नाम हो गया।
उल्लेखनीय है कि चार दिन पूर्व इन प्रभावित झुग्गीवासियों ने कई दशकों पुरानी अपने कब्जे की भूमि और अपने घर को बचाने के लिए गले में फांसी का फंदा डालकर शहर से कलेक्ट्रट तक पैदल मार्च करते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं क्षेत्रीय सांसद विष्णु दत्त शर्मा एवं अंकुर त्रिवेदी के खिलाफ जमकर नोरबाजी की थी। हालांकि सांसद वीडी शर्मा से आज मोबाइल पर हुई लंबी चर्चा के बाद झुग्गीवासी कुछ हद तक संतुष्ट नजर आए।

पहले कोतवाली का रिकार्ड चैक करो

झुग्गीवासियों के संबंध में मोबाइल पर कोतवाली थाना पन्ना टीआई से बात करते हुए पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेत्री सुश्री कुसुम सिंह महदेले।
गरीबों और वंचित तबकों से जुड़े मसलों को लेकर सदैव संवेदनशील एवं मुखर रहने वालीं पूर्व मंत्री सुश्री कुसुम सिंह महदेले ने पानी भरने के कथित विवाद में कोतवाली थाना पन्ना पुलिस की भूमिका तथा कार्यप्रणाली को लेकर निरीक्षक अरुण सोनी से मोबाइल पर बात की। सुश्री महदेले ने अपने चिरपरिचित अंदाज में कहा कि- टीआई साहब ऐसा है कि शिकायत पर कोई कार्रवाई करने से पहले आप आपने थाना का रिकार्ड चैक कर लेना। झुग्गीवासियों की जो लोग शिकायत करा रहे हैं वे आपराधिक प्रकृति के व्यक्ति हैं, उनके विरुद्ध दर्ज आपराधिक प्रकरणों की लंबी सूची है। आप शिकायत की अच्छी तरह से जांच कर लें ताकि जमीनी विवाद के इस मामले में किसी भी निर्दोष को झूठे प्रकरण में फंसाया न जाए। इस पर टीआई श्री सोनी ने उन्हें आश्वस्त किया कि पुलिस की और से निष्पक्ष तरीके से उचित कार्रवाई की जाएगी। मालूम होकि कुछ दिन पूर्व इन झुग्गी वासियों ने प्रदेश खनिज मंत्री एवं क्षेत्रीय विधायक बृजेन्द्र प्रताप से मिलकर उनसे अपने पुश्तैनी घरों को बचाने और न्याय दिलाने की मांग की थी, जिस पर उन्होंने बीच का रास्ता निकालते हुए इस विवाद का शीघ्र समाधान कराने का आश्वासन दिया था।

इनका कहना है-

“जिले के कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक से विनम्र अपील है कि मेरे ऊपर लगाए जा रहे आरोपों की शीघ्र गहन जांच कराई जाए, इसमें अगर मैं कहीं दोषी पाया जाऊं तो हर दण्ड भुगतने के लिए तैयार हूँ। मुझे पूर्ण विश्वास है कि निष्पक्ष जांच से सच सामने आ जाएगा। संरक्षण देने के नाम पर मेरी राजनैतिक-आर्थिक हत्या का षड्यंत्र रचकर मुझे बदनाम करने का जो खेल चल रहा है उसकी सच्चाई भी लोगों को पता चल जायेगी।”

– अंकुर त्रिवेदी, भाजपा नेता पन्ना।