वायर के फंदे में फंसा तेंदुआ आबादी क्षेत्र मिला, रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू होने से पहले हुई मौत

0
775
जंगल से भागकर पटनातमोली गांव में पहुंचा तेंदुआ।

पन्ना जिले के दक्षिण वन मण्डल की सलेहा रेन्ज अंतर्गत पटनातमोली ग्राम की घटना

स्टेट टाइगर स्ट्राइक फ़ोर्स के खुलासे और कार्रवाई के बाद भी नहीं थम रहीं शिकार की घटनाएं !

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में बाघ-तेन्दुओं और दूसरे वन्य प्राणियों के शिकार की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं। जबकि पन्ना टाइगर रिजर्व में सिर विहीन बाघ का शव मिलने की जांच कर रही स्टेट टाइगर स्ट्राइक फ़ोर्स भोपाल की टीम के द्वारा जिले में सक्रिय वन्यजीवों का शिकार एवं उनके अंगों की तस्करी करने वाले संगठित गिरोह का सप्ताह भर पूर्व ही पर्दाफाश करते हुए सरगना समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इनके कब्जे से तेन्दुओं और चीतल की दो-दो खालें जप्त की गई हैं। एसटीएसएफ के इस बड़े भंडाफोड़ से जुड़ीं चर्चाओं और बाघ पी-123 का सिर एवं अन्य अंग काटकर ले जाने की दुस्साहसिक घटना को अंजाम देने वाले शिकारियों-तस्करों का सुराग लगाने के लिए जारी विशेष प्रयासों के बीच जिले के दक्षिण वन मण्डल की सलेहा रेन्ज अंतर्गत पटनातमोली ग्राम में एक तेंदुआ वायर के फंदे में बुरी तरह फंसा हुआ मिला। जंगल से भागकर आबादी क्षेत्र में स्थित नीम के पेड़ पर चढ़े इस तेंदुए की जान बचाने के लिए लकड़ी में बंधे वायर के फंदे से उसे मुक्त कराने रेस्क्यू टीम को मौके पर बुलाया गया लेकिन इस टीम के पहुँचने से पहले ही घायल तेन्दुए मौत हो चुकी थी।
तेंदुआ का देखने के लिए पेड़ के आसपास एकत्र हुए पटनातमोली गांव के लोग।
शाम होने के कारण तेन्दुए के शव को जांच के लिए पेड़ से नीचे नहीं उतारा गया। मामले की फोरेंसिक जांच हेतु घटनास्थल को सुरक्षित करते हुए मौके पर वनकर्मियों को तैनात किया गया है। दक्षिण वन मण्डल पन्ना की डीएफओ मीना कुमारी मिश्रा ने मोबाइल पर चर्चा के दौरान जानकारी देते हुए बताया कि आज दोपहर के समय सलेहा रेंज की धरवारा बीट अंतर्गत ग्राम पटनातमोली की इंदिरा आवास कॉलोनी में लगे नीम के पेड़ पर एक तेंदुए के चढ़े होने की सूचना मिली थी। रेंजर सलेहा आर.एस. पटेल ने स्टॉफ के साथ मौके पर पहुंचकर दूरबीन से देखा तो उसके शरीर लकड़ी में बंधा हुआ वायर का फंदा फंसा हुआ नजर आया। इसकी जानकारी मिलते एसडीओ फॉरेस्ट हेमंत यादव मौके पर पहुंचे।
वायर का फंदा कसने और जख्मी होने के कारण पेड़ पर ही दम तोड़ने वाला युवा तेंदुआ।
तेंदुए की जान बचाने के लिए पन्ना टाइगर रिजर्व की रेस्क्यू टीम को सूचित कर मौके पर बुलाया गया लेकिन गुरुवार को शाम के समय उक्त टीम जब मौके पर पहुंची तब तक जख्मी तेंदुए की साँसें हमेशा के लिए थम चुकी थीं। मृत तेन्दुए की अगले दिन शुक्रवार 25 सितंबर की सुबह पंचनामा कार्रवाई, घटनास्थल स्थल एवं शव की फोरेंसिक टीम से जांच कराने के लिए शव को पेड़ से नीचे नहीं उतारा गया। वहीं जांच के लिए घटनास्थल को भी सुरक्षित करते हुए मौके पर वनकर्मियों को तैनात किया गया है।
उल्लेखनीय है कि गुरुवार 24 सितंबर को दोपहर में वायर में फंसे युवा तेंदुए ने जब पटनातमोली की इंदिरा आवास कॉलोनी में स्थित नीम के पेड़ पर शरण ली तो बस्ती में अफरा-तफरी फ़ैल गई। वायर में फंसे होने से परेशान व जख्मी तेंदुए के द्वारा हमला करने के भय और आशंका के चलते बस्ती के लोग अपने घरों के दरवाजे बंद कर काफी देर तक अंदर दुबके रहे। हालांकि इस दौरान तेंदुए को देखने की उत्सुकता में गांव के दूसरे मोहल्लों के लोगों की भीड़ पेड़ से कुछ दूरी पर जमा रही। शाम के समय जब तेंदुए की मौत होने का पता चला तो ग्रामीण दुखी और निराश नजर आए।
फाइल फोटो।
क्योंकि आमतौर पर कम नजर आने वाले तेंदुए को जीवित देखने की इनकी इच्छा पूरी नहीं हो सकी। प्रारंभिक जांच-पड़ताल में यह स्पष्ट नहीं हो सका कि युवा तेन्दुआ शिकार के लिए लगाए गए क्लिच वायर के फंदे में फंसा है या फिर आबादी क्षेत्र में आने के दौरान वह किसी दुर्घटनावश वायर में फंसा है। शुक्रवार को तेंदुए के शव, घटनास्थल की जांच और पोस्टमार्टम होने पर इन सवालों के जवाब मिलने की उम्मीद है। मालूम होकि जिले के उत्तर-दक्षिण सामान्य वन मण्डल एवं पन्ना टाइगर रिजर्व अंतर्गत पिछले तीन साल के अंदर दो दर्जन तेंदुओं की संदेहास्पद मौत और शिकार की घटनाएं सामने आईं हैं।