लॉकडाउन के मुश्किल वक़्त में मनरेगा बनी मजदूरों का सहारा, 1182 कार्यों में 8180 मजदूरों को मिल रहा रोजगार

0
320
मनरेगा से चल रहे कार्यों में मजदूरी करते जाबकार्डधारी श्रमिक।

* प्रशासन का दावा कोरोना से बचाव हेतु कार्यस्थल पर बरती जा रही सतर्कता

* सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन और मास्क लगाकर काम कर रहे मजदूर

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) प्रदेश में कोरोना संकट के कारण लागू लाॅकडाउन के दौरान श्रमिकों को काम मिलना बंद हो गया था। कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के मार्गदर्शन में जिले में मनरेगा के कार्यो को प्रारंभ कराया गया है। मजदूरों को उनके ग्राम पंचायत क्षेत्र में कार्य उपलब्ध हो सके इसके लिए प्रत्येक पंचायत क्षेत्र में मनरेगा के कार्यो को प्रारंभ कराया गया।
मनरेगा योजना से निर्माण कार्यों को मंजूरी मिलने के बाद जिले की ग्राम पंचायतों में 1182 निर्माण कार्य प्रारंभ हो चुके हैं। इन कार्यो में जल संरक्षण एवं कृषि से संबंधित कार्यों को प्राथमिकता दी जा रही है। जिले में चल रहे कार्यो में 8180 श्रमिकों को मजदूरी का काम मिल रहा है। इससे लाॅकडाउन के दौरान मजदूरों को मनरेगा योजना से रोजगार प्राप्त होने पर बड़ी राहत प्राप्त हुई है।

गुटखा-तम्बाखू प्रतिबंधित

मनरेगा से चल रहे कार्यों में मजदूरी करते जाबकार्डधारी श्रमिक।
कार्यस्थल पर श्रमिकों के बीच उचित दूरी बनाए रखने के साथ चेहरे को ढंककर रखना अनिवार्य किया गया है। प्रत्येक कार्य में मेट तैनात है जो इन शर्तों को सुनिश्चित करवाएगा। इन कार्यो की ग्राम पंचायत के उपयंत्रियों द्वारा निरंतर माॅनीटरिंग कराई जा रही है। आवश्यकतानुसार उपकरणों एवं हांथों को सेनेटाइजर अथवा साबुन से धोने के निर्देशों का पालन कराया जा रहा है। कार्य स्थल पर धूम्रपान, गुटखा, तम्बाखू आदि का सेवन प्रतिबंधित किया गया है। कार्यस्थल पर थूकना पूर्णता प्रतिबंधित किया गया है। ऐसे श्रमिक जिन्हें सर्दी, जुखाम, खांसी, बुखार, सांस फूलने आदि के लक्षण दिखाई दे रहे हो उन्हें कार्य में नहीं लगाया जा रहा है। काम पर रखे जाने वाले श्रमिकों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के निर्देश हैं।

हितग्राहीमूलक 960 कार्य प्रारंभ

बालगुरु के. सीईओ जिला पंचायत पन्ना।
कलेक्टर द्वारा निर्देशित किया गया है कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में मनरेगा के कार्य प्रारंभ कराकर मजदूरों की आवश्यकता एवं मांग अनुसार कार्य उपलब्ध कराया जाए। इस संबंध में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत बालागुरू के. द्वारा बताया गया कि जिले में 960 हितग्राहीमूलक कार्य, 222 सामुदायिक कार्य मनरेगा योजना अन्तर्गत प्रारंभ किए गए हैं। इनमें कुल 8180 मजदूरों को लाॅकडाउन की अवधि में रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए जिले के समस्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायतों को निर्देश दिए गए हैं कि अपने अपने क्षेत्र अन्तर्गत अधिक से अधिक मनरेगा योजना के कार्यो को प्रारंभ करते हुए स्थानीय स्तर पर श्रमिकों को रोजगार मुहैया कराएं।