पन्ना में मृत मिले दो दर्जन से अधिक कबूतर, जांच के लिए भेजे गए सैम्पल

0
773
पन्ना में जगन्नाथ स्वामी मंदिर की छत पर मृत पड़े कबूतरों के शव का जायजा लेते हुए पशु चिकित्सा विभाग की टीम।

पशु चिकित्सा विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर लिया जायजा

बड़ी संख्या में कबूतरों की मौत होने की खबर फैलने से मचा हड़कंप

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के कई जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बीच आज पन्ना जिले में भी बड़ी संख्या में पक्षियों अस्वाभाविक मौत होने का मामला प्रकाश में आया है। पन्ना के प्राचीन जगन्नाथ स्वामी मंदिर की छत पर दो दर्जन से अधिक कबूतर मृत पाए गए। बड़ी संख्या में कबूतरों मरने की सूचना मिलने पर सोमवार की सुबह पशु चिकित्सा सेवाएं विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया। मंदिर की छत पर मृत मिले 26 कबूतरों के शव को उक्त टीम ने अपने कब्जे में लेकर जांच हेतु उनके सैम्पल भोपाल भेजे हैं। वहीं जांच रिपोर्ट के आने पर ही कबूतरों की मौत की स्थिति स्पष्ट होने की बात कही जा रही है। नगर के बीचों-बीच स्थित मंदिर में कबूतरों की मौत होने से जुड़ी जानकारी आज सुबह सोशल मीडिया पर आते ही हड़कम्प मच गया। कोरोना संकट को लेकर पहले से ही चिंतित जिले के लोग अब बर्ड फ्लू के रूप एक नए खतरे की आशंका से भयभीत नजर आ रहे हैं।
पशु चिकित्सा विभाग पन्ना के उप संचालक डॉ. व्हीके त्रिपाठी ने बताया कि सोमवार की सुबह उन्हें सूचना मिली थी कि जगन्नाथ स्वामी मंदिर में कई कबूतर मृत पड़े हैं। इसे गंभीरता से लेते हुए डॉक्टर नरेन्द्र सिंह बुन्देला के नेतृत्व में एक टीम को तुरंत मौके पर भेजा गया। उन्होंने बताया, मंदिर में 26 मृत कबूतर पाये गए। कुछ कबूतरों के शव सड़े हुए मिले। जिससे उनकी मौत पिछले कई दिनों से जारी रहने की संभावना जताई जा रही है। प्रदेश के कई जिलों में बर्ड फ्लू की दस्तक के मद्देनजर पन्ना में कबूतरों की मौत को लेकर पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी फ़िलहाल कुछ भी बोलने से बच रहे है। उनका कहना है जांच रिपोर्ट आने पर ही आधिकारिक तौर यह स्पष्ट हो पाएगा कि कबूतरों की मौत बर्ड फ्लू के कारण हुई या फिर इसके पीछे अन्य कोई वजह है।
जगन्नाथ स्वामी मंदिर में कबूतरों के मरने की जानकारी पशु चिकित्सा विभाग के द्वारा नगर पालिका परिषद पन्ना को दे दी गई है तथा मंदिर को सैनिटाइज करने के लिए कहा गया है। उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व पन्ना के ककरहटी क़स्बा में कौवा मृत मिला था और अजयगढ़ व पवई में मुर्गियों के मरने की सूचना मिली थी। इनके सैम्पल भी जांच हेतु भोपाल स्थित लैब भेजे गए हैं।