एनएमडीसी की हीरा खनन परियोजना ने जिला चिकित्सालय को प्रदान किए दो एम्बुलेन्स वाहन

0
562

*   जिला चिकित्सालय की सुविधाओं को बढ़ाने निरंतर सहयोग दे रही एनएमडीसी लिमिटेड

*   स्वास्थ्य कर्मियों को ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराने 5 लाख 64 हजार रूपये दिया का चेक

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) एनएमडीसी लिमिटेड की हीरा खनन परियोजना मझगवां के द्वारा नैगम सामाजिक दायित्व का बखूबी निर्वाहन करते हुए पन्ना जिला चिकित्सालय की सुविधाओं को बढ़ाने के लिए निरंतर आर्थिक सहयोग व आवश्यक सामग्री प्रदान की जा रही है। इसी क्रम में एनएमडीसी लिमिटेड के द्वारा जिला चिकित्सालय को दो नए एम्बुलेंस वाहन प्रदान किये गए हैं। प्रदेश के खनिज साधन एवं श्रम विभाग मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में आयोजित एक गरिमामयी कार्यक्रम में एनएमडीसी लिमिटेड हीरा खनन परियोजना के द्वारा जिला चिकित्सालय को दो एम्बुलेन्स वाहन उपलब्ध कराए गए। साथ ही बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को ऑक्सीमीटर उपलब्ध कराने के लिए 5 लाख 64 हजार रूपये का चैक संयुक्त रूप से मंत्री श्री सिंह एवं कलेक्टर पन्ना के द्वारा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एल.के. तिवारी को सौंपा गया।
इस अवसर पर मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि एनएमडीसी लम्बे समय से जिले में हीरे का उत्खनन कर रही है। यह एशिया महाद्वीप की एक मात्र ऐसी खदान है जो पूरी तरह आधुनिक, तकनीकी संचालित है। इस परियोजना द्वारा खदान क्षेत्र के आसपास बहुत सारे समाज सेवा के कार्य किए जाते हैं। समीप के गांव में शिक्षा, पेयजल, परिवहन आदि की सुविधाएं दी जा रहीं हैं। इसके अलावा इनके द्वारा जिला चिकित्सालय में निरंतर सहयोग प्रदान किया जा रहा है। आगे भी अन्य सहयोग प्रदान करते रहेंगे। मंत्री श्री सिंह ने कहा कि परियोजना प्रबंधक द्वारा मैंने चर्चा करते हुए कहा है कि नगर मुख्यालय पर कोई ऐसा काम किया जाए जिससे जिला मुख्यालय में पहचान बन सके। इसके लिए धरम सागर तालाब के चारों ओर पाथ-वे बनाने के संबंध में कहा गया है। इस पर परियोजना प्रबंधक द्वारा कार्य कराने का आश्वासन दिया गया है।
मंत्री श्री सिंह ने कहा कि परियोजना को आगे आने वाले समय में संचालित रखने के लिए राज्य शासन एवं केन्द्र शासन से स्वीकृति प्रदान कराने में हरसंभव सहायता की जाएगी। इस परियोजना से यहां के लोगों को प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलता है इसलिए जिले में इस परियोजना को निरंतर चालू रखने के प्रयास किए जाएंगे।
कलेक्टर संजय कुमार मिश्र ने कहा कि परियोजना द्वारा आवश्यक जनसेवा के कार्य किए जा रहे हैं। इनके द्वारा स्वविवेक से आक्सीमीटर के लिए 5 लाख 64 हजार रूपये की राशि प्रदान की गयी है। इस राशि से आक्सीमीटर क्रय किए जाकर घरों पर आइसोलेट किए जाने वाले कोरोना पाॅजिटिव मरीजों के स्वास्थ्य की जांच निरंतर हो सकेगी। उन्होंने अपेक्षा करते हुए कहा कि एनएमडीसी द्वारा आगामी समय में जिला चिकित्सालय को शव वाहन उपलब्ध कराया जाएगा।
कार्यक्रम में हीरा खनन परियोजना के मुख्य महाप्रबंधक एनएमडीसी एस.के. जैन ने कहा कि परियोजना को आगे संचालित रखने की स्वीकृति प्राप्त हो जाने पर यह परियोजना निरंतर सामाजिक कार्यों में अपना सहयोग करती रहेगी। सम्पन्न हुए कार्यक्रम में वरिष्ठ प्रबंधक भूपेन्द्र कुमार द्वारा उपस्थितों के प्रति विनम्र आभार व्यक्त किया गया। कार्यक्रम में हीरा खनन परियोजना के श्रमिक संघ के पदाधिकारी समरबहादुर सिंह, भोला प्रसाद सोनी, सोमेन्द्र प्रताप सिंह, सिविल सर्जन डाॅ. व्ही.एस. उपाध्याय, डाॅ. गुंजन सिंह, अन्य चिकित्सकगण, पत्रकारगण एवं चिकित्सा विभाग के अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे।