महाशिवरात्रि पर्व पर नगर में भव्य शोभायात्रा निकालकर जन-जन को दिया “शिव का सन्देश”

0
869
परम पिता परमात्मा शिव के अवतरण दिवस महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य पर पन्ना नगर में ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय द्वारा भव्य शोभायात्रा निकाली गई।

ब्रह्माकुमारी संस्था में त्रिमूर्ति शिव जयंती महोत्सव धूमधाम से मनाया गया

मनुष्य की आत्म ज्योति जगाने अवतरित हुये भगवान शिव: बीके सीता बहनजी

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) मूल्य निष्ठ समाज के निर्माण में संलग्न आध्यात्मिक संस्था प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय में 85वीं त्रिमूर्ति शिव जयंती महोत्सव गुरुवार 11 मार्च को अनूठे अंदाज में बड़े ही धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ आध्यात्मिक रीति से मनाया गया। पन्ना में इस अवसर पर परम्परानुसार संस्था के विद्यालय में सुबह परमपिता परमात्मा शिव के पूजन के साथ-साथ ध्वजारोहण एवं दीप प्रज्जवलन किया गया। कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगों ने इस दौरान दैवीय गुणों को धारण करने की प्रतिज्ञा ली। दोपहर के समय नगर में त्रियुगी नारायण शिव की भव्य शोभायात्रा निकालकर जन-जन को शिवरात्रि का आध्यात्मिक रहस्य बताते हुए भगवान शिव का सन्देश दिया गया।
ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय पन्ना में महाशिवरात्रि के पावन पर्व के अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष रविराज सिंह यादव ने ध्वजारोहण किया।
वैसे तो हिंदू धर्म में हर माह मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है, लेकिन फाल्गुन मास में आने वाली महाशिवरात्रि का विशेष महत्व होता है। ऐसी मान्यता है कि, इसी दिन भगवान शिव और माँ पार्वती का विवाह हुआ था। शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि की रात ही भगवान शिव करोड़ों सूर्यों के समान प्रभाव वाले ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुए थे। तभी से हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है। शिवरात्रि पर वैसे तो सभी शिवालयों में विवध धार्मिक आयोजन होते हैं मगर प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय में इस महापर्व को अनूठे अंदाज में मनाने की परम्परा है।
महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य पर ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय पन्ना में जिला पंचायत अध्यक्ष रविराज सिंह यादव एवं अन्य लोगों ने दीप प्रज्ज्वलित किया।
फलस्वरूप गुरुवार 11 मार्च को पन्ना में जिला चिकित्सालय के पीछे स्थित ब्रह्माकुमारी संस्था में महाशिवरात्रि पर्व के विशेष आयोजनों का सिलिसला प्रातः 8 बजे से शुरू हुआ। इस अवसर पर ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय (राजयोग प्रशिक्षण केन्द्र) में जिला पंचायत अध्यक्ष पन्ना रविराज सिंह यादव ने ध्वजारोहण एवं दीप प्रज्ज्वलन किया। तत्पश्चात सभी ने दैवी गुणों को धारण करने की प्रतिज्ञा ली। कार्यक्रम में श्रीमती निशा जैन प्राचार्य शासकीय उत्कृष्ठ विद्यालय पन्ना, श्रीमती आशा गुप्ता, श्रीमती सुमन गुप्ता तथा अन्य लोग उपस्थित रहे।
ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय पन्ना में उपस्थित जनों को महाशिवरात्रि का आध्यात्मिक रहस्य बताते हुए बीके सीता बहनजी।
महाशिवरात्रि के प्रातःकालीन कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय (राजयोग प्रशिक्षण केन्द्र) पन्ना की प्रमुख बीके सीता बहन जी के द्वारा सभी उपस्थित जनों को शिवरात्रि का गूढ़ आध्यात्मिक रहस्य बेहद सरल तरीके से बताया गया। बहन जी ने कहा कि, वास्तव में यहां शिव के साथ जुड़ी हुई रात्रि स्थूल अंधकार का वाचक नहीं है, यह आध्यात्मिक दृष्टिकोण से कल्प के अंतिम समय व्याप्त घोर अज्ञानता और तमोप्रधानता का प्रतीक है। जब धरती पर अज्ञान-अंधेरा छाया होता है। तब परमपिता परमात्मा का अवतरण होता है।
शिवरात्रि निराकार परमपिता परमात्मा शिव के दिव्य अलौकिक जन्म का स्मरण दिवस है। इस संसार में किसी का जन्म दिवस मनाते हैं तो उसे हम जन्म दिन कहते हैं। भले ही वह रात्रि में पैदा हुआ हो, मानव जन्मोत्सव को जन्म रात्रि नहीं मनाते हैं वरन् जन्म दिवस के रूप में मनाते हैं परन्तु शिव के जन्मोत्सव को शिवरात्रि ही कहते हैं। हम सभी महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर यह प्रतिज्ञा लें कि अपनी बुराईयों-व्यसनों को भगवान शिव को धतूरे के रूप में अर्पित करें एवं ईश्वरीय ध्यान में रहने का संकल्प लें।

शिव के जयकारों से गूंजा नगर

महाशिवरात्रि के अवसर पर ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय द्वारा पन्ना में शोभायत्रा निकालकर लोगों को ईश्वरीय सन्देश दिया गया। (सभी फोटो : बीके शिवम् )
महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य पर दोपहर के समय ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय से नगर में भव्य शोभायत्रा निकाली गई। जिसमें संस्था से जुड़े भाई-बहन बड़ी संख्या में शामिल हुए। अधिकांश लोगों ने श्वेत वस्त्र धारण कर रखे थे। शोभायत्रा में अनुशासित तरीके से कतारबद्ध होकर चल रहे लोगों के द्वारा जन-जन को परमपिता परमात्मा शिव के अवतरण का दिव्य संदेश दिया गया। शोभायात्रा में शिवलिंग की झांकी आकर्षण का केन्द्र रही। झांकी में लगे पोस्टर-फ्लैक्स के माध्यम से नगरवासियों को बताया गया कि अंधकार रुपी कलयुग जा रहा है और आलौकिक ज्योतिर्मय सतयुग आ रहा है। शोभायत्रा नगर के जिस भी मार्ग से होकर निकली लोग इसे देखने कुछ देर के लिए वहीं रुक गए। इस दौरान समूचा नगर भगवन शिव के जयकारों से गुंजायमान हो उठा। शोभायत्रा मुख्य मार्गों से होते हुए वापस ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विद्यालय पहुंचकर संपन्न हुई। तदुपरांत प्रसाद वितरण किया गया।