हमारा घर-हमारा विद्यालय योजना से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा, छात्र-शिक्षक हित में योजना को बंद करने की उठी मांग

0
1062
सांकेतिक फोटो।

* शिक्षकों को घर-घर जाकर बच्चों को पढ़ाने की योजना का शुरू हुआ विरोध

* अपाक्स संगठन ने प्रांतीय आव्हान पर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा

* कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सिर्फ ऑनलाइन पढ़ाई कराने की मांग

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) मध्य प्रदेश सरकार के शिक्षा विभाग की हमारा घर-हमारा विद्यालय योजना 2020 के क्रियान्वयन से छात्रों और शिक्षकों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है। यह दावा अपाक्स संगठन ने किया है। छात्रों और शिक्षकों के स्वास्थ्य से जुड़ीं गंभीर चिंताओं का हवाला देते हुए देते अपाक्स संगठन ने इस योजना को तत्काल प्रभाव से बंद करने की मांग की है। मौजूदा संकट को देखते हुए कोरोना से बचाव के लिए सिर्फ ऑनलाइन पढाई कराने की मांग की जा रही है। इस सम्बंध में गत दिनों अपाक्स संगठन जिला शाखा पन्ना के अध्यक्ष कृष्णपाल सिंह यादव के नेतृत्व में प्रदेश के मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री एवं प्रमुख सचिव शिक्षा के नाम एक ज्ञापन दिया गया। जिसमें बताया गया है कि, हमारा घर-हमारा विद्यालय योजना से छात्रों और शिक्षकों के कोरोना संक्रमित होने का खतरा काफी बढ़ गया है। इस योजना के अंतर्गत शिक्षकों का घर-घर जाकर बच्चों को पढ़ाना कोरोना संक्रमण के प्रसार की वजह बन सकता है।
सांकेतिक फोटो।
उल्लेखनीय है कि पिछले चार माह से कोरोना संकट के कारण लॉकडाउन की स्थिति निर्मित है। लॉकडाउन होने से सभी शिक्षा संस्थान बंद हैं। जिसकी वजह से छात्र-छात्राओं की शिक्षा बाधित है। इन विषम परिस्थितियों में बच्चों की पढ़ाई न रुके इसलिए उन्हें शिक्षा प्रदान करने के लिए राज्य सरकार के द्वारा इस योजना को पिछले माह से प्रारंभ किया गया है। हमारा घर-हमारा विद्यालय योजना के अंतर्गत कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के विद्यार्थियों को घर पर ही शिक्षा प्रदान की जा रही है। राज्य शिक्षा केन्द्र की इस अनूठी योजना का अपाक्स संगठन इसलिए पुरजोर विरोध कर रहा है, क्योंकि कुछ जिलों में कतिपय शिक्षक कोरोना पॉजिटिव हुए हैं। इतना ही नहीं अशोकनगर के शिक्षक संजीव रघुवंशी कोरोना पॉजिटिव होकर अपनी जान गवां चुके हैं।

कोरोना योद्धा घोषित किया जाए

कलेक्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित करने के बाद पन्ना में नवीन संयुक्त कलेक्ट्रेट कार्यालय से बाहर आते शिक्षक एवं कर्मचारी संघों के पदाधिकारी।
देश और प्रदेश में प्रतिदिन कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए छात्रों उनके पालकों और शिक्षकों में भय व्याप्त है। इस स्थिति में शिक्षकों को घर-घर जाकर पढ़ाने की व्यवस्था को मुक्त करके सिर्फ ऑनलाइन अध्यापन कार्य कराने की मांग अपाक्स संगठन ने की है। प्रांतीय आव्हान पर सौंपे गए ज्ञापन में संगठन ने कोरोना से मृत शिक्षक संजीव रघुवंशी को कोरोना योद्धा घोषित करते हुए उनके आश्रितों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने। इसके अलावा उनके परिवार के किसी योग्य सदस्य को शीघ्र अनुकम्पा नियुक्ति दिए जाने की भी मांग की है। ज्ञापन सौंपने वालों में कृष्णपाल सिंह यादव अपाक्स जिला अध्यक्ष पन्ना, एम. ए. कुरैशी जिला सचिव अपाक्स, राजकिशोर शर्मा महामंत्री शिक्षक कोंग्रेस एवं अशोक पाण्डेय अध्यक्ष लघु वेतन कर्मचारी संघ प्रमुख रूप से शामिल रहे।