पुलिस ने विशेष अभियान चलाकर पकड़ा 2 क्विंटल हरा गांजा, नशे की खेती करने वालों पर कसा शिकंजा

0
761

 पन्ना जिले की सिमरिया और धरमपुर थाना पुलिस की कार्रवाई

*   मादक पदार्थों के कारोबारियों में मचा हड़कम्प

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में मादक पदार्थों के कारोबार के खिलाफ चलाए जा रहे विशेष अभियान के तहत पुलिस ने गांजे की खेती और इसका कारोबार करने वालों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करते हुए 2 क्विंटल से अधिक हरा गांजा जप्त किया है। गांजा की खेती करने के आरोप में पुलिस ने 5 लोगों को गिरफ्तार उनके विरुद्ध एनडीपीएस एक्ट के तहत आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध किया है। पुलिस के द्वारा जप्त गांजे की कीमत करीब साढ़े 12 लाख रुपए बताई जा रही है। नशे की खेती के खिलाफ इस महत्वपूर्ण कार्रवाई को जिले की सिमरिया और धरमपुर थाना पुलिस के द्वारा अपने-अपने थाना क्षेत्रांतर्गत अंजाम दिया गया। पन्ना पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी के निर्देशन में की गई इस महत्वपूर्ण कार्रवाई के बाद से गांजा की खेती करने वालों एवं जिले में सक्रिय रहे मादक पदार्थों के कारोबारियों में ख़ासा हड़कम्प मचा है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार थाना प्रभारी सिमरिया एवं प्रशिक्षु उप पुलिस अधीक्षक अभिषेक गौतम को मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम मनिया में चार व्यक्ति अपने घरों में अवैध रूप से गांजे के पेड़ लगाये हुए हैं। थाना प्रभारी के द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों इसकी जानकारी दी गई और फिर उनके निर्देशन एवं मार्गदर्शन में गांजे की खेती के खिलाफ कार्रवाई करते हुए ग्राम मनिया में एक साथ चार पुलिस टीमों ने ताबड़तोड़ अंदाज में अलग-अलग घरों में छापेमारी की गई। पुलिस ने स्थानीय निवासी विक्रम सिंह पिता प्रतिपाल सिंह बुंदेला 30 वर्ष के यहां से 45 किलोग्राम गांजा के हरे पेड़, मंगल सिंह पिता नत्थू सिंह बुंदेला 60 साल के घर से 35 किलोग्राम हरे गांजे के पेड़, रमेश बेड़िया पिता कुंजीलाल बेड़िया 50 वर्ष से 22 किलोग्राम गांजा के हरे पेड़ व् शैलेंद्र सिंह पिता राजाराम सिंह राजपूत 25 साल के यहां से 45 किलो 200 ग्राम गांजे के हरे पेड़ जप्त किए। ये चारों व्यक्ति अपने घर के आँगन में गांजे की खेती कर रहे थे।
पुलिस ने मौके पर पेड़ों को जड़ों सहित उखाड़ कर पंचनामा कार्यवाही की और फिर उन्हें सील किया गया। चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर सिमरिया थाना पुलिस ने इनके विरुद्ध अपराध क्रमांक क्रमश:450/20, 451/20, 452/20, 453/20 धारा 8/20 एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला पंजीबद्ध किया है। जप्तशुदा करीब डेढ़ क्विंटल गांजा का मूल्य साढ़े सात लाख रुपए बताया गया है। इस सम्पूर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी सिमरिया एवं प्रशिक्षु उप पुलिस अधीक्षक अभिषेक गौतम, उप निरीक्षक सुरेंद्र कुमार द्विवेदी, उप निरीक्षक ईश्वर सिंह, उप निरीक्षक मनोरमा देवी मौर्य, उप निरीक्षक सरिता तिवारी चौकी प्रभारी मोहन्द्रा, सहायक उपनिरीक्षक आर.पी.प्रजापति, शिशिर मंडल, आरक्षक बलवंत लोधी, अतुल मेहरा, अश्विनी सिंह, अनिल गर्ग, राहुल पटेल, धीरेन्द्र यादव, सुरेन्द्र असाठी, अनिल बरकड़े, अजय, मुकेश, श्याम सिंह, महिला आरक्षक पप्पी सोलंकी की महत्वपूर्ण भूमिका रही। पन्ना पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी ने गांजे की खेती के खिलाफ सिमरिया थाना पुलिस की कार्रवाई की सराहना करते हुए इसे सफलता पूर्वक अंजाम देने वाली टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

धरमपुर पुलिस पकड़ा 55 किलो गांजा

जिले के अजयगढ़ अनुभाग अंतर्गत आने वाले धरमपुर थाना की पुलिस ने मुखबिर से मिली सूचना पर ग्राम काजीपुर में स्थित एक घर पर दबिश देकर वहाँ से 55 किलोग्राम हरा गांजा जप्त किया है। थाना प्रभारी धरमपुर सुधीर कुमार बैगी ने बताया कि ग्राम काजीपुर में रामसनेही लोध अपने मकान के पीछे बाउण्ड्री के अंदर अवैध रूप से गांजा की खेती कर रहा था। शुक्रवार को कार्रवाई के दौरान पुलिस ने जब रामसनेही लोध से प्रतिबंधित गांजा की खेती से जुड़े अनुमति सम्बंधी दस्तावेज मंगाए तो उसके द्वारा किसी तरह के दस्तावेज होने से इंकार किया गया। मौके पर गांजा की खेती की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराई गई। पुलिस ने रामसनेही पिता सुखलाल लोध 59 साल निवासी काजीपुर के घर से 107 नग छोटे-बड़े गांजे के पेड़ जप्त किए। जिसकी ऊंचाई 8 से 10 फुट के बीच और वजन 55 किलोग्राम है। हरे गांजे का मूल्य साढ़े पांच लाख रुपये बताया गया है।

दर्ज किया मामला

धरमपुर थाना के ग्राम काजीपुर में रामसनेही लोध के घर पर लगे गांजे के पेड़ उखाड़ते हुए पुलिसकर्मी।
धरमपुर थाना पुलिस ने गांजा की खेती करने के आरोप में रामसनेही लोध को गिरफ्तार कर उसके विरुद्ध अपराध क्रमांक 180/20 धारा 8/20 एनडीपीएस एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है। इस कार्यवाही में उप निरीक्षक सुधीर कुमार बैगी थाना प्रभारी धरमपुर, उप निरीक्षक रतिराम प्रजापति चौकी प्रभारी खोरा, एएसआई रामफल शर्मा चौकी प्रभारी नरदहा, एएसआई बीएल पाण्डेय, एएसआई बी.डी. बाला, प्रधान आरक्षक सैयद समीमुल हक, रावेन्द्र सिंह, आरक्षक प्रदीप हरदेनिया, रोहित शिवहरे, गजेन्द्र सिंह, नीरज प्रजापति, भूपाल सिंह, प्रमोद पटेल, विजय सिंह, महिला आरक्षक वंदना दोहरे, पुष्पा अहिरवार की अहम भूमिका रही ।