कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद बिलघाड़ी गाँव को सील कर बैठाया पुलिस का पहरा, दिल्ली से लौटने के बाद होम क्वारंटाइन न रहकर गाँव और क्षेत्र में घूमता रहा संक्रमित

0
622
पन्ना जिला चिकित्सालय में बनाए गए कोविड-19 वार्डों का निरीक्षण करते हुए कलेक्टर कर्मवीर शर्मा। फाइल फोटो

* तीन दिन पूर्व ग्राम घाट सिमरिया निवासी इसका रिश्तेदार नवयुवक जाँच में निकला था पॉजिटिव

* कोरोना हॉट स्पॉट बने दिल्ली से मिनी बस में सवार होकर अन्य लोगों के साथ आये थे दोनों संक्रमित

* पन्ना जिले में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर हुई तीन, गुनौर तहसील में तीन दिन में दो केस मिलने से मचा हड़कम्प

* बिलघाड़ी वाले मरीज के चक्कर में गुनौर में इलाहाबाद बैंक की शाखा, मेडीकल स्टोर और साईकिल की दुकान हुई सील

* कोरोना संक्रमित मरीज के सम्पर्क में आने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर 8 सैम्पल जांच के लिए सागर भेजे गए

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में कोरोना संक्रमण का प्रवासियों के साथ आना शुरू हो गया है। मंगलवार को जिले की गुनौर तहसील क्षेत्र के ही एक और व्यक्ति की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के साथ जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर अब तीन हो गई है। जाँच में कोरोना संक्रमित निकला तीसरा व्यक्ति ग्राम बिलघाड़ी का निवासी है, जिसकी आयु 44 वर्ष बताई जा रही है। दिनांक 11 को यह व्यक्ति कोरोना हॉट स्पॉट बने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से अपने परिवार, रिश्तेदारों एवं अन्य लोगों के साथ के मिनी बस में सवार होकर बिलघाड़ी आया था। तीन दिन पूर्व शनिवार 16 मई गुनौर तहसील क्षेत्र के ही ग्राम घाट सिमरिया निवासी एक 22 वर्षीय युवक की कोरोना जांच पॉजिटिव निकलने पर इसके साथ दिल्ली से वापस लौटने वाले एवं प्राइमरी कॉन्टेक्ट में आये लोगों के रूप में बिलघाड़ी निवासी उसके रिश्तेदार का सैम्पल लेकर जाँच के लिए भेजा गया। आज सुबह जब इसकी जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने की पुष्टि हुई तो जिले के स्वास्थ्य महकमे, प्रशासनिक हल्क़ों तथा गुनौर तहसील क्षेत्र में हड़कम्प मच गया। आनन-फानन में पन्ना कलेक्टर कर्मवीर शर्मा, एसपी मयंक अवस्थी एवं सीएमएचओ डॉ. एल. के. तिवारी मौके पर पहुंचे और ग्राम बिलघाड़ी पहुंचे कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित करते हुए कोरोना संक्रमण के प्रसार की रोकथाम हेतु गांव को सील करा दिया।
सांकेतिक फोटो।
कंटेनमेंट क्षेत्र बिलघाड़ी गांव से होकर निकलने वाले पन्ना-गुनौर मुख्य मार्ग सहित सभी इन्ट्री प्वाइंट, अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर बैरिकेटिंग करते हुए निगरानी के लिए पुलिस जवानों को तैनात किया गया है। ताकि इस इलाके में किस तरह का कोई आवागमन न हो। इसके अलावा बिलघाड़ी वाले कोरोना संक्रमित मरीज की ट्रेवल हिस्ट्री की जानकारी प्राप्त की गई एवं प्रथम सम्पर्क में आने वाले 8 व्यक्तियों के सैम्पल स्वास्थ्य विभाग द्वारा लिए गए। जिला स्तर से पहुंची आरआरटी टीम द्वारा कोरोना पाॅजिटिव को निर्धारित एम्बुलेन्स के माध्यम से जिला चिकित्सालय में स्थापित कोविड हेल्थ केयर सेंटर में भर्ती कराया गया है। सेंटर में उसका उपचार प्रारंभ कर दिया गया है। यहाँ पूर्व से भर्ती घाट सिमरिया निवासी मरीज वर्तमान में स्वस्थ है। कोविड हेल्थ केयर सेंटर में उपचार के साथ-साथ पौष्टिक आहार एवं स्वस्थ मनोरंजन उपलब्ध कराया जा रहा है।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एल.के. तिवारी द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार गुनौर तहसील के ग्राम घाट सिमरिया में पूर्व में एक पाॅजिटिव व्यक्ति पाया गया था। उसके प्रथम सम्पर्क में आने वाले व्यक्तियों के सेम्पल परीक्षण के लिए प्रयोगशाला सागर भेजे गए थे। उनमें बिलघाड़ी निवासी 44 वर्षीय व्यक्ति की जांच रिपोर्ट पाॅजिटिव पायी गयी है। यह व्यक्ति सिविल लाईन दिल्ली से पूर्व पाॅजिटिव युवक के साथ यात्रा करके अपने ग्राम 11 मई को पहुंचा था।पन्ना सीएमएचओ डॉ. एल. के. तिवारी से पूंछा गया कि ग्राम घाट सिमरिया निवासी जिले के दूसरे कोरोना मरीज ने बिलघाड़ी निवासी अपने रिश्तेदार को संक्रमित करने में क्या संवाहक (कोरोना कैरियर) की भूमिका निभाई है तो उन्होंने इससे इंकार कर दिया।
सांकेतिक फोटो।
गौरतलब है कि बिलघाड़ी में कोरोना पाॅजिटिव केस मिलने के बाद गांव सील कर लोगों को घरों में अघोषित तौर पर कैद किये जाने से उनमें खासी दहशत देखी जा रही है। उधर, जिले की गुनौर तहसील क्षेत्र में तीन दिन में कोरोना का दूसरा मरीज मिलने से तहसील क्षेत्र समेत जिले के लोग महामारी के फैलाव को लेकर खासे चिंतित हैं। दरअसल, दिल्ली से 11 मई को लौटे बिलघाड़ी वाले मरीज होम क्वारंटाइन के नियम का अनुशासन एवं संयम के साथ ईमानदारी से पालन नहीं किया गया। इस मामले में स्थानीय अमले की बड़ी लापरवाही सामने आई है। जिसके परिणाम स्वरूप मंगलवार को उक्त कोरोना मरीज होम क्वारंटाइन में मिलने की बजाए कथिततौर पर लोगों बाजार में घूमता दिखा।
सांकेतिक फोटो।
अपुष्ट सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक होम आइसोलेट किया गया उक्त मरीज घर में रहने की जगह बाजार में घूमता नजर आया। बताया जाता है कि वह अपने गांव बिलघाड़ी में तो घूमा ही साथ ही गुनौर तहसील मुख्यालय भी पहुंचा। जहां वह इलाहाबाद बैंक की शाखा में गया। इसके अलावा एक साइकिल दुकान में उसने टायर आदि की खरीदारी की थी। साथ ही गुनौर के एक मेडिकल स्टोर में भी गया था। जानकारी मिलने के बाद प्रशासन ने बैंक सहित साईकिल दुकान और मेडिकल स्टोर को भी सील करा दिया है। यदि प्रवासियों को पूर्व की तरह संस्थागत आइसोलेशन सेंटर में रखा जाता तो वे शायद अन्य लोगों के सम्पर्क में न आ पाते। इससे संक्रमण के फैलाव का खतरा पैदा न होता साथ ही इनके प्रथम सम्पर्क के आधार पर इतने अधिक लोगों के सैम्पल लेकर जांच के लिए भेजने की जरुरत भी न पड़ती। जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर तीन होने के साथ ही कंटेनमेंट घोषित क्षेत्र की संख्या भी अब तीन हो गई है।