मंदिरों में हुई चोरी का खुलासा, पकड़े गए आरोपी से चोरी का सामान जप्त

0
1091
अजयगढ़ के मंदिरों में हुई चोरियों का खुलासा कर पकड़े गए व्यक्ति से जब्त सामग्री के साथ स्थानीय थाना की पुलिस टीम।

 कई दिनों तक मंदिरों की रेकी करने के बाद मौका पाकर रात में करता था चोरी

पन्ना/अजयगढ़। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले की अजयगढ़ थाना पुलिस ने स्थानीय मंदिरों में हुई चोरियों का खुलासा करने का दावा करते हुए एक आरोपी को गिरफ़्तार किया है। पुलिस ने आरोपी के कब्जे से मंदिरों से चुराया हुआ सामान एवं नकद एक हजार रुपये जप्त होने की जानकारी दी है। सोमवार 24 मई को इस संबंध पुलिस की ओर से सोशल मीडिया पर जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पकड़े गए आरोपी से कड़ाई से पूँछताछ किये जाने पर उसने अजयगढ़ के खंदियन मंदिर, बागराजन माता मंदिर, महेश्वरी माता मंदिर में चोरी की वारदात को अंजाम देना स्वीकार किया है। आरोपी के कब्जे से पुलिस ने चाँदी के 2 मुकुट, चाँदी की 4 आँखे, 1 हजार 83 रूपये नकद और साइकिल को जप्त किया है।
उल्लेखनीय है कि, लॉकडाउन के दौरान हाल ही में अजयगढ़ के पैलेस मार्ग स्थित महेश्वरी माता मंदिर में चोरी की घटना घटित होने पर स्थानीय लोगों में पुलिस की सुस्ती को लेकर गहरी नाराजगी व्याप्त थी। क्योंकि, इसके पूर्व वर्ष 2020 एवं 2019 में भी अजयगढ़ के दो प्रमुख आस्था के केन्द्रों में हुई चोरी का खुलासा करने में स्थानीय पुलिस नाकाम रही है। 22-23 मई की दरम्यानी रात महेश्वरी माता मंदिर में हुई चोरी की घटना को पन्ना पुलिस अधीक्षक धर्मराज सिंह मीना द्वारा गंभीरता से लेते हुए आरोपियों का सुराग लगाकर उन्हें गिरफ्तार करने के लिए थाना प्रभारी अजयगढ़ निरीक्षक अरविन्द कुजूर के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई।
चोरी के खुलासे के लिए पुलिस ने अपने मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया साथ ही पैलेस मार्ग के सीसीटीव्ही कैमरों के फुटेज खंगाले गए। अजयगढ़ में चर्चा है कि कोरोना लॉकडाउन के चलते रात के सन्नाटे में हुई इस चोरी का संदेही आरोपी कई जगह पर सीसीटीव्ही कैमरों में कैद हुआ था इसलिए पुलिस ने उसे आसानी से चिन्हित कर लिया। हालांकि प्रेस विज्ञप्ति में पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया मुखबिर की सूचना पर पकड़े गए संदिग्ध आरोपी से सख्ती से पूंछतांछ करने पर उसने अजयगढ़ के खंदियन मंदिर, बागराजन माता मंदिर, महेश्वरी माता मंदिर में चोरी की वारदात को अंजाम देना कबूल किया है। आरोपी ने बताया कि वह चोरी करने के पूर्व मंदिरों के आसपास घूमकर आवश्यक जानकारी एकत्र करता था और फिर मौका पाकर रात्रि में चोरी की घटना को अंजाम देता था।