MP के पन्ना टाइगर रिज़र्व से दीपावली के दिन आई दुखद खबर !

0
958
घटनास्थल का मुआयना करते हुए वन्यप्राणी चिकित्सक संजीव कुमार गुप्ता एवं मौके पर मौजूद पार्क के कर्मचारी।

* बाघिन को अज्ञात वाहन ने कुचला, मौके पर हुई दर्दनाक मौत

* एक साल के अंदर असमय काल कवलित हुए आधा दर्जन बाघ

शादिक खान, पन्ना।(www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व में बाघों की असमय मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। दीपावली के दिन भी पार्क से एक दुखद खबर आई है। पार्क की पन्ना कोर रेन्ज की सीमा से सटे कटनी-कानपुर स्टेट हाइवे पर अकोला के समीप अज्ञात वाहन ने एक बाघिन को कुचल दिया। इस हादसे में बुरी तरह ज़ख़्मी बाघिन की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। मृत बाघिन की आयु करीब 10 माह है। युवा अवस्था की दहलीज पर खड़ी बाघिन की असमय मौत होना पन्ना टाइगर रिजर्व के लिए बड़ी क्षति है।
घटना की सूचना मिलने पन्ना टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर उत्तम कुमार शर्मा, डिप्टी डायरेक्टर जरांडे ईश्वर रामहरि एवं वन्यप्राणी चिकित्सक संजीव कुमार गुप्ता सहित तमाम अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया। बाघिन की मौत की जांच शुरू कर दी गई है। उसके शव का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। दीपावली के त्यौहार के दिन सड़क दुर्घटना में बाघिन की असमय मौत होने की दुखद खबर आने के बाद से पन्ना टाइगर रिजर्व में शोक की लहर व्याप्त है। पार्क के अधिकारियों के घटना स्थल पर मौजूद होने के कारण उनसे सम्पर्क नहीं हो सका। इस कारण सड़क दुर्घटना के संबंध में विस्तृत एवं आधिकारिक तौर पर जानकारी नहीं मिल सकी।
सूत्रों से पता चला है, सड़क दुर्घटना का शिकार हुई बाघिन का सिर बुरी तरह से कुचलने के कारण उसकी मौत हुई है। मृत बाघिन की पहचान बाघिन पी-235 की संतान के रूप में होने की चर्चा है। उल्लेखनीय है कि, पन्ना में लगभग 11 माह के अंदर बाघ की मौत की यह छठवीं घटना है। कुछ समय पूर्व पन्ना की केन नदी में गिरे एक युवा बाघ का अज्ञात शिकारी सिर समेत अन्य अंग काटकर ले गए थे। हालांकि इस मामले का खुलासा हो चुका और शिकारी जेल में हैं।