सेक्सटॉर्शन : वीडियो कॉल पर अनजान लड़की ने अश्लील हरकतें कर वीडियो बनाया, वायरल करने की धमकी देकर शिक्षक से ऐंठे 11 लाख

0
32
सेक्सुअल ब्लैकमेलिंग के मामले के खुलासे की पत्रकारों को जानकारी देते पन्ना पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीना।

*     पुलिस ने अंतर्राज्यीय मेवाती गैंग के 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार

*     आरोपियों के कब्जे से मोबाइल फोन, लैपटॉप एवं 15 हजार रुपए जप्त

*     शातिर साइबर ठग राजस्थान में बैठकर करते थे सेक्सुअल ब्लैकमेलिंग

पन्ना। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले की पुलिस ने सेक्सटॉर्शन यानी सेक्सुअल ब्लैकमेलिंग के एक मामले का खुलासा करते हुए राजस्थान के मेवाती गैंग के 2 सदस्यों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। ये लोगों को वीडियो कॉल के जरिए अश्लील वीडियो बनाकर ठगी का शिकार बनांते थे। पकड़े गए शातिर ठगों ने जिले के गुनौर क़स्बा निवासी एक शिक्षक का अनजान लड़की के साथ अश्लील वीडियो एडिट करके बनाया फिर उसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर वायरल करने की धमकी देकर 11 लाख रुपए अलग-अलग बैंक खाता नंबरों पर ट्रांसफर करवा लिए। लगातार सेक्सुअल ब्लैकमेलिंग का शिकार हो रहे शिक्षक के द्वारा पुलिस से शिकायत की गई। नए दौर के इस अपराध (सेक्सटॉर्शन) को गंभीरता से लेते हुए पन्ना पुलिस ने अंत्तर्राज्यीय मेवाती गैंग के 2 सक्रिय सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से मोबाइल, एटीएम कार्ड एवं रुपए 15 हजार नगदी सहित अन्य सामग्री जप्त की है। दोनों आरोपियों को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से दोनों को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। इस मामले के 3 आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है।

क्या है मामला

पुलिस अधीक्षक पन्ना धर्मराज मीना ने मंगलवार 24 जनवरी को प्रेसवार्ता में जानकारी देते हुए बताया कि उनके कार्यालय में फरियादी ने दिनांक 10 दिसंबर 2022 को शिकायत की थी। जिसमें बताया गया कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने मेरे मोबाइल फोन पर वीडियो कॉल किया। कॉल में एक अनजान लड़की दिखी जो स्वयं अश्लील हरकतें कर रही थी। कुछ समय बाद अज्ञात नम्बर से मेरे मोबाइल में वीडियो कॉल के दौरान का लड़की के साथ अश्लील वीडियो एडिट कर भेजा गया। उक्त वीडियो को वायरल करने की धमकी देकर रुपयों की मांग की गई। बदनामी के डर से परेशान शिक्षक ने बताए गये बैंक खाता नम्बर में ट्रांसफर कर दिए। इसके बाद लगातार अज्ञात नंबरों से कॉल कर साइबर ठगों ने खुद को कभी सीआईडी अधिकारी तो कभी सोशल मीडिया अधिकारी बताकर शिक्षक ब्लैकमेल किया। इस तरह अलग-अलग बैंक खातों में शिक्षक ने कुल 11 लाख रुपए डाल दिए। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस अधीक्षक पन्ना ने तत्काल पुलिस सायबर सेल टीम को अज्ञात आरोपियों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी एकत्रित करने निर्देशित किया। गुनौर थाना पुलिस के द्वारा इस मामले में अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध धोखाधड़ी का प्रकरण कायम कर विवेचना में लिया गया। इसके बाद गुनौर थाना पुलिस एवं साइबर सेल के द्वारा पहाड़ी भरतपुर राजस्थान से अंत्तर्राज्यीय मेवाती गैंग के 2 सक्रिय संदेही व्यक्तियों को गिरफ्तार पन्ना लाया गया।

लड़की बनकर करते थे वीडियो कॉल

पुलिस अधीक्षक पन्ना द्वारा दी गई जानकारी अनुसार, पकड़े गए आरोपियों ने पूंछतांछ में पुलिस को बताया हम लोग महीने के हिसाब से मुस्तफा इन्टरप्राइजेज पहाड़ी भरतपुर राजस्थान में काम करते है। वहां पर तीन अन्य लोग ई-मित्र (कियोस्क बैंक) संचालित करते हैं। जो लोगों से वीडियो कॉल पर लड़की बनकर अश्लील बातचीत करते थे। और फिर अश्लील वीडियो बनाकर उसे वायरल करने एवं कानूनी कार्यवाही करवाने की धमकी देकर जालसाजी करते थे। आरोपियों ने बताया ठगी के जरिए बैंक खतों में जो भी राशि आती उसमें से ज्यादातर रुपया वो तीनों लोग आपस में बांट लेते है एवं थोड़ा पैसा हमें भी दे देते हैं। पुलिस टीम ने दोनों आरोपियों के कब्जे से 1 एटीएम कार्ड, 2 मोबाइल, 15 हजार रूपये नगद एवं आरोपियों द्वारा संचालित मुस्तफा इंटरप्राइजेज (कियोस्क बैंक शाखा) से मिले 1 लैपटॉप, 1 रजिस्टर, 3 अन्य मोबाईल, 1 बायोमैट्रिक डिवाईस एवं 3 सिमकार्ड को जप्त किया है। मामले में 3 संदेही व्यक्ति फरार है। जिनकी तलाश पुलिस द्वारा की जा रही है। शिक्षक से जिन खातों में रुपए डलवाए गए उन 6 खातों में करीब 90 लाख रूपए जमा हुए है। मामले में पुलिस की विवेचना जारी है। पुलिस अधीक्षक श्री मीना ने फरार आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद अन्य राज्यों में कायम हुये इसी तरह के अन्य मामलों का खुलासा होने की संभावना जताई है।