स्मार्ट सिटी ठेकेदार की मनमानी | सीसी सड़क निर्माण के लिए पहाड़ पर वन भूमि में खोद डाली खदान

0
507
पन्ना की पहाड़कोठी में बीएसएनएल के टावर के समीप वन भूमि पर स्मार्ट सिटी ठेकेदार के द्वारा सीसी सड़क निर्माण के लिए खोदी गई अवैध खदान।

*    वन संपदा के विनाश को नजरअंदाज करते रहे उत्तर वन मंडल पन्ना के अफसर

*    सवाल उठने पर आनन-फानन में कार्रवाई कर जप्त किया हाइवा और जेसीबी मशीन

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के पन्ना जिला मुख्यालय में मिनी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत अनेक निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं। करोड़ों रूपये की लागत से निर्मित एवं निर्माणाधीन कार्यों से छोटा सा यह शहर कितना स्मार्ट बन पाएगा ! इसका पता तो समस्त कार्यों की पूर्णता के बाद ही चलेगा। लेकिन, फिलहाल स्मार्ट सिटी के कार्यों से अधिक उनमें अपनाए रहे भ्रष्टाचार के स्मार्ट तौर-तरीके चर्चा में हैं। पन्ना बस स्टैण्ड की नव निर्मित सीसी सड़क की तेजी से उखड़ती गिट्टी के साथ उधड़ती भ्रष्टाचार की परतों को ढंकने के लिए सड़क के लोकार्पण के सप्ताह भर के अंदर उसके ऊपर डामरीकरण कराने वाले ठेकेदार का अब एक नया कारनामा सामने आया है।
पन्ना की पहाड़कोठी में अटल रोड निर्माण के लिए ठेकेदार मेसर्स अतुल क़ुरारिया सतना ने नियम-कानूनों की खुलेआम धज्जियाँ उड़ाते हुए पहाड़ पर वन भूमि में अवैध खदान ही खोद डाली। पन्ना कलेक्टर के बंगले से महज आधा किलोमीटर की दूरी पर बड़े पैमाने पर हुए इस अवैध खनन को जिले के जिम्मेदार प्रशासनिक अधिकारियों की मूक सहमति प्राप्त रही है।
शायद इसीलिये निर्माण कार्य पूर्ण होने तक उत्तर वन मण्डल पन्ना के मैदानी अमले से लेकर वन अधिकारी तमाशबीन बने रहे, लेकिन जब अवैध खनन को जानबूझकर नजरअंदाज करने पर सवाल उठने शुरू हुए तो वन अधिकारियों का अचानक कर्तव्य बोध जाग उठा। खुद को वन संपदा का सजग संरक्षक साबित करने के लिए सीसी सड़क निर्माण कार्य पूर्ण होने के इन्तजार में बैठे उत्तर वन मण्डल के अफसरों ने बीते दिनों रात के अंधेरे में अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई करते हुए ठेकेदार की मशीनरी जब्त कर ली।
वन क्षेत्र में अवैध खनन को लेकर सवाल उठने पर वन विभाग के द्वारा जब्त की की गई ठेकेदार जेसीबी मशीन हाइवा।
उत्तर वन मण्डल पन्ना के उप वनमण्डलाधिकारी आरकेएस चौहान ने जानकारी देते हुए बताया कि, पन्ना रेन्ज की बीट पन्ना के वन कक्ष क्रमांक पी- 427 पहाड़कोठी में सीसी सड़क निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदार के द्वारा अवैध खनन करने की जानकारी मिली थी, जिसे गंभीरता से लेकर दिनांक 31 दिसम्बर 2021 को रात्रि में करीब 9-10 बजे मौके पर दबिश देते हुए कार्रवाई की गई। आपने बताया, सीसी सड़क का निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदार की एक जेसीबी मशीन और एक हाइवा को मौके से जब्त किया है।
अवैध खनन के मामले में ठेकेदार के कर्मचारियों के विरुद्ध वन अपराध पंजीबद्ध किया गया है। इस मामले में जब्तशुदा मशीनरी को राजसात करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। इसकी सूचना भी न्यायालय को भेजी जा चुकी है। एसडीओ फॉरेस्ट श्री चौहान से जब यह पूंछा गया कि, अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई इतनी देरी से क्यों की गई ! वन विभाग के ऊपर प्रत्यक्ष-परोक्ष तौर पर क्या कोई दवाब था? उन्होंने इन सवालों का खुलकर कोई उत्तर न देते हुए सिर्फ इतना ही कहा कि, आप सब जानते हैं।

साहब की नाराजगी की फ़िक्र, पदीय दायित्व की नहीं !

मध्य प्रदेश अर्बन डेवलपमेंट कम्पनी लिमिटेड भोपाल के द्वारा मिनी स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत पन्ना की पहाड़कोठी में अटल पार्क का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। ऊंची पहाड़ी पर वन भूमि में निर्माणधीन इस पार्क तक लोगों के आवागमन को सुगम बनाने के लिए एक करोड़ इकतालीस लाख से अधिक की लागत से अटल रोड का निर्माण कार्य कराया गया है। उक्त निर्माण कार्यों को लेकर जिले के प्रशासनिक अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों ने विशेष दिलचस्पी दिखाई है। जिसका अनुचित लाभ उठाते हुए ठेकेदार ने सीसी सड़क निर्माण के लिए नियम-कानूनों को धता बताते हुए पहाड़ की चोटी पर वन भूमि में करीब 30 फिट गहरी और 60 फिट लंबी खदान खोद डाली।
अवैध खदान में खनन को रोकने लिए वन विभाग के मैदानी अमले से लेकर जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा समय पर कार्रवाई नहीं की गई।
जिला मुख्यालय में कुछ दिन पूर्व तक संचालित रही इस अवैध खदान में मशीनों से खनन कराकर ठेकेदार खुलेआम निर्माण सामग्री को लूटता रहा और उत्तर वन मण्डल पन्ना के अधिकारी वन सपंदा के विनाश को निर्लज्जता के साथ नजरअंदाज करते रहे। दरअसल, इन्हें डर था कि उनके हस्तक्षेप करने से साहब नाराज हो जाएंगे। साथ ही उनके ऊपर विकास कार्यों में बाधक बनने का आक्षेप लग सकता था। इन्हीं सब आशंकों के बीच नफा-नुकसान का आंकलन करने के बाद कुर्सी सलामत रखने को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए वन विभाग के अफसर 2 माह से अधिक समय तक अपने पदीय दायित्व के निर्वहन को भूले रहे।
वन क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अवैध खनन होने तथा निर्माण कार्य हेतु दी गई अनुमति की शर्तों के उल्लंघन के मामले में ठकेदार के खिलाफ कार्रवाई करने का नैतिक साहस उत्तर वन मंडल के अधिकारियों ने तब दिखाया जब सीसी सड़क बनकर तैयार हो गई। वन सम्पदा के विनाश के दौरान तमाशबीन बने रहे वन विभाग के अधिकारियों ने इस कार्रवाई के जरिए एक तरह से अपनी भूमिका पर पर्दा डालने का काम किया है।