महिला डॉक्टर को बंधक बनाकर लूट करने वाले तीन आरोपी गिरफ्तार, नगदी रुपए समेत 24 लाख का माल जप्त

0
672
पन्ना में महिला चिकित्सक के घर से नोटों से भरे दो बड़े बैग की लूट के मामले में पकड़े गए बदमाशों से जब्त नगदी रुपए।

*   आरोपियों से जिले की 20 चोरियों एवं नकबजनी की वारदातों के खुलासे का दावा

*   डॉक्टर से लूट के मामले में नकदी 9 लाख रुपए समेत कुल 12 लाख की सामग्री जप्त

शादिक खान, पन्ना। (www.radarnews.in) जिला चिकित्सालय पन्ना में पदस्थ वरिष्ठ महिला चिकित्सक डॉ. मीना नामदेव को उनके आवास में ही बंधक बनाकर लूटपाट करने वाले तीन शातिर आरोपियों को पुलिस ने सप्ताह भर के अंदर गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए आरोपियों में एक नाबालिग भी शामिल है। जबकि वारदात में शामिल एक अन्य आरोपी फरार है। पुलिस ने शातिर बदमाशों के कब्जे से नगदी 9 लाख रुपए समेत कुल 24 लाख रुपए का माल बरामद होना बताया है। पुलिस अधीक्षक पन्ना धर्मराज मीना का कहना है, इन बदमाशों ने महिला चिकित्सक से लूटपाट करने के अलावा जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में पूर्व में चोरियों-नकबजनी की 20 वारदातों को भी अंजाम दिया है।

नोटों से भरे दो बड़े बैग लूट गए थे बदमाश

पन्ना के नज़रबाग ग्राउण्ड के सामने हाऊसिंग बोर्ड की कॉलोनी में रहने वाली महिला चिकित्सक डॉ. मीना नामदेव के घर 6 मई की रात तीन अज्ञात नकाबपोश बदमाश खिड़की की ग्रिल काटकर अंदर घुसे थे। महिला चिकित्सक को उनके बेडरूम में बंधक बनाकर बदमाशों ने लूटपाट की सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया था। डॉ. मीना नामदेव ने बताया था कि, अज्ञात बदमाश गोदरेज अलमारी के अंदर रखे नोटों से भरे दो बड़े बैग, सोने की चेन और मोबाइल फोन लूट ले गए हैं। इस सनसनीखेज चुनौतीपूर्ण वारदात का खुलासा करने के लिए पुलिस अधीक्षक के द्वारा पुलिस की तीन टीमें गठित की गईं। अज्ञात बदमाशों की धरपकड़ के लिए घटना स्थल के आसपास के सीसीटीव्ही कैमरों के फुटेज को खंगाला गया जिसमें आरोपियों के हुलिया, पहने गये कपड़ों एवं उपयोग में लाई गई मोटर साइकिल के आधार पर संभावित जगहों पर संदिग्धों की तलाश शुरू की गई।

पुलिस का दावा, ओरछा से पकड़े बदमाश

महिला चिकित्सक के साथ हुई लूट की घटना का खुलासा कर पत्रकारों को जानकारी देते पुलिस अधीक्षक पन्ना अपनी टीम के साथ।
पुलिस अधीक्षक धर्मराज मीना ने बुधवार 11 मई की शाम प्रेसवार्ता में लूट का खुलासा करते हुए पत्रकारों को बताया, पुलिस की सायबर सेल टीम और मुखबिर की सूचना के आधार मामले के संदिग्ध 3 व्यक्तियों को ओरछा से पुलिस अभिरक्षा में लिया गया। पुलिस का दावा है कि, पूँछताछ करने पर उक्त व्यक्तियों ने महिला डॉक्टर के आवास में लूट की घटना को अंजाम देना स्वीकार करते हुये अपने एक अन्य साथी के साथ मिलकर पन्ना जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों के अंतर्गत 20 चोरियों-नकबजनी की वारदातों को भी कबूल किया है। उल्लेखनीय है कि, महिला चिकित्सक के घर से नोटों से भरे दो बड़े बैग लूटने के मामले में पुलिस ने आरोपियों से नगद 9 लाख 10 हजार रूपये, एक सोने की चेन, 4 मोबाइल फोन, लूटी हुई राशि से खरीदी गई 1 पलशर मोटर साइकिल, घटना में प्रयुक्त 1 मोटर साइकिल,1 आयरन कटर कुल करीब 12 लाख 24 हजार रूपये का माल जप्त किया है। बताते चलें कि, लूट की घटना के बाद डॉ. मीना नामदेव ने पत्रकारों के पूंछने पर बताया था कि लूटे गए दोनों बैगों में कुल कितनी राशि रखी थी यह तो मुझे मालूम नहीं लेकिन उन्होंने बड़ी रकम होने की बात कही थी।

चोरियों-नकबजनी की वारदातों में बरामद माल

लूटपाट करने वाले शातिर बदमाशों से लूट-चोरी-नकबजनी की वारदातों में जप्त गहने एवं अन्य सामग्री।
पकड़े गए शातिर आरोपियों के द्वारा पूर्व में पन्ना जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों में की गई चोरियों-नकबजनी की 20 वारदातों में पुलिस ने नकदी रुपए समेत कुल 12 लाख 13 हजार रूपये का जप्त का माल जप्त होने की जानकारी दी है। जिसमें नगद 45000 रूपये, 145 ग्राम सोना, 4 किलो 100 ग्राम चाँदी एवं 01 मोबाइल फोन शामिल है। सनसनीखेज लूट और पूर्व में हुईं चोरियों के खुलासे को पुलिस कप्तान ने पन्ना पुलिस बड़ी सफलता बताया है। उन्होंने इसके खुलासे में सराहनीय योगदान देने वाली पुलिस टीम को 10 हजार रूपये के पुरस्कार से पुरुस्कृत करने की घोषणा की है।