दुखद घटना : युवक ने ससुर से फोन पर कहा “उमा और मैं जा रहे हैं”, थोड़ी देर बाद फांसी के फंदे पर लटके मिले पति-पत्नी के शव

0
2084
पति-पत्नी के द्वारा फांसी लगाने की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची धरमपुर थाना पुलिस आवश्यक कार्रवाई करते हुए।

*  नव दंपत्ति ने अज्ञात कारणों के चलते लगाई फांसी

*  पन्ना जिले के धरमपुर थाना क्षेत्र के ग्राम भोंदू की चक्की की घटना

मुस्तक़ीम खान, अजयगढ़ /पन्ना। (www.radarnews.in) मध्यप्रदेश के पन्ना जिले में आज एक अत्यंत ही दुखद घटना सामने आई है। जिले के धरमपुर थाना अंतर्गत ग्राम भोंदू की चक्की में एक नव दम्पति ने अज्ञात कारणों के चलते कथित तौर आत्महत्या कर ली। घर के अंदर पति-पत्नी के शव फांसी के फंदे पर लटके हुए मिले। प्रारंभिक जांच के आधार पर पुलिस घटना को आत्महत्या बता रही है लेकिन फिलहाल यह पता नहीं चल सका है कि, आखिर ऐसी क्या वजह थी जिसके कारण विवाहित जोड़े को जान देने के लिए मजबूर होना पड़ा। पुलिस ने घटना पर मर्ग कायम कर मामले को जांच में लिया है। पति-पत्नी की मौत की खबर आने के बाद से क्षेत्र में शोक की लहर व्याप्त है। वहीं दोनों के इस कदम में उनके परिजन स्तब्ध और ग़मगीन हैं।
घर के बाहर खड़े लोग घटना के संबंध में आपस में चर्चा कर दुःख और हैरानी व्यक्त करते हुए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, गुरुवार 11 मार्च को राजेन्द्र उर्फ़ भूरा लोधी 23 वर्ष एवं उसकी पत्नी उमा लोधी 22 वर्ष निवासी ग्राम भोंदू की चक्की अपने घर पर थे। जबकि परिवार के अन्य सदस्य खेत गए हुए थे। दोपहर में लगभग 3:30 बजे जब परिवार के सदस्य घर पहुंचे तो अंदर राजेन्द्र व उमा को एक साथ एक ही रस्सी के सहारे फांसी के फंदे पर लटका हुआ देख उनके होश उड़ गए। परिजनों की चींख-पुकार सुनकर पड़ोसी तुरंत मौके पर पहुंचे लेकिन दोनों की सांसें पहले ही थम चुकीं थीं।
नजदीकी ग्राम बहिरवारा निवासी उमा के पिता ने जानकारी देते हुए बताया कि उनकी बेटी का विवाह करीब 2 वर्ष पूर्व राजेन्द्र के साथ हुआ था। उनके अनुसार, राजेन्द्र शराब पीने का आदी था और नशे की हालत में अक्सर अपनी पत्नी से झगड़ा करता था। दो वर्ष के वैवाहिक जीवन में उनको कोई संतान नहीं हुई। उमा के पिता ने बताया कि राजेन्द्र ने आखिरी बार फोन करके उनसे कहा था कि, उमा और मैं जा रहे हैं। लेकिन वह अपने दामाद की बात को समझ नहीं सके। आज जब दोनों की मौत की दुखद खबर आई तो पहले उन्हें यकीन ही नहीं हुआ। दरअसल, उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि राजेन्द्र और उमा सबको छोड़कर हमेशा के लिए इस तरह से चले जाएंगे। इस नव दंपत्ति के परिजन उनके द्वारा आत्मघाती कदम उठाने के फैसले को लेकर स्तब्ध और परेशान। गम और आंसुओं के सैलाब में डूबे परिजन कभी खुद से तो कभी संवेदना व्यक्त करने पहुँचने वाले परचितों से लिपट कर सिर्फ एक ही सवाल पूँछ रहे हैं, राजेन्द्र और उमा ने आखिर ऐसा क्यों किया ? इसका जबाव फिलहाल किसी के पास नहीं है।

नायब तहसीलदार ने की पंचनामा कार्रवाई

नव दंपत्ति की मौत से व्यथित एवं शोकमग्न ग्राम की महिलाएं।
नव विवाहित दंपत्ति के द्वारा आत्महत्या करने के की तहरीर मिलने पर अजयगढ़ से नायब तहसीलदार धीरज गौतम तुरंत मौके पर पहुंचे। वहाँ पहले से मौजूद धरमपुर थाना पुलिस की सहायता से उनके द्वारा पंचनामा कार्रवाई पूर्ण कराई गई। तत्पश्चात पुलिस के द्वारा दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराने के लिए उन्हें अजयगढ़ रवाना किया गया। समाचार लिखे जाने तक शवों का पोस्टमार्टम नहीं हुआ था। धरमपुर थाना प्रभारी सुधीर कुमार बैगी ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल इस घटना पर मर्ग कायम किया गया है। घटना के कारणों का पता लगाने के लिए प्रकरण की सूक्ष्मता से जांच की जा रही है। थाना प्रभारी ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने तथा जांच पूर्ण होने पर घटना के कारणों का खुलासा होने संभावना जताई है।