गाँव की स्वच्छता को लेकर ग्रामीणों ने किया पंचायत का घेराव, नारेबाजी कर दिया धरना

0
392
पन्ना जिले की ग्राम पंचायत बख़्तरी भवन के बाहर धरने पर बैठे ग्रामीणों से बात करते हुए राजस्व विभाग की टीम।

* पन्ना जिले की ग्राम पंचायत बख़्तरी का मामला

* गंदे पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था ना होने से परेशान हैं ग्रामीण

* सार्वजानिक नाली बंद करके गुण्डागर्दी करने वालों के विरुद्ध पुलिस ने नहीं की उचित कार्रवाई

पन्ना/गुनौर।(www.radarnews.in) स्वच्छ भारत अभियान के चलते लोगों में व्यक्तिगत स्वच्छता एवं अपने गांव-नगर की साफ-सफाई को लेकर जागरूकता बढ़ी है। स्वच्छता के आभाव में गंदगी के कारण फैलनी वाली बीमारियों को लेकर लोगों में अब पहले से कहीं अधिक सजगता और सतर्कता देखी जा रही है। परिणाम स्वरूप अधिकाशं ग्रामीण अपनी आदतों में बदलाव लाकर व्यक्तिगत और अपने परिवेश की साफ-सफाई पर अब विशेष ध्यान दे रहे हैं। ग्रामीण अंचल के वाशिंदों की जीवन शैली में आए इस सकारात्मक बदलाव की खबर मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में गत दिनों प्रकाश में आए एक घटनाक्रम से मिलती है। जहां गंदे पानी की निकासी को लेकर ग्रामीणों के द्वारा ग्राम पंचायत का घेराव किया गया।
ग्राम पंचायत बख़्तरी का भवन । (फाइल फोटो)
उल्लेखनीय है कि जिले की जनपद पंचायत पन्ना के अंतर्गत आने वाले ग्राम बख़्तरी में गंदे पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था नहीं है। वहीं गाँव की आधी-अधूरी बनीं नाली को दबंगों ने अवरुद्ध कर दिया। परिणामस्वरूप गन्दा पानी गाँव की गलियों से होकर बहने लगा। वहीं कई घरों के सामने सड़क पर गन्दे पानी का भराव होने से भीषण दुर्गन्ध फैलने लगी। गंदे पानी के प्रवाह के बीच गाँव के आंतरिक मार्गों से होकर आवागमन करने एवं दुर्गन्ध के बीच रहने को मजबूर ग्रामीणों द्वारा समस्या के समाधान के लिए पंचायत सचिव को अवगत कराया गया। लेकिन मामला दबंगों से जुड़ा होने के कारण पंचायत के नुमाइंदों ने जानबूझकर इसे नजरअंदाज कर आमलोगों को समस्या से निजात दिलाना उचित नहीं समझा। इस स्थिति में ग्राम के जागरूक लोगों ने राष्ट्रीय खाद्य आपूर्ति विभाग मजदूर संघ जिलाध्यक्ष पन्ना केपी सिंह बुन्देला के नेतृत्व में ग्राम पंचायत बख़्तरी का घेराव कर दिया। श्री बुन्देला ग्राम बख़्तरी के ही निवासी हैं साथ ही वे और उनका परिवार भी गंदे पानी की निकासी की समस्या से काफी समय से परेशान रहा है।
ग्राम पंचायत बख़्तरी के सरपंच का पत्र।
सोशल मीडिया के माध्यम से ग्रामीणों के विरोध-प्रदर्शन की भनक लगते ही पन्ना के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व के द्वारा 12 जनवरी को आनन-फानन में एक विभागीय टीम को बख़्तरी भेजा गया। इस टीम ने ग्राम का भ्रमण कर वस्तु स्थिति का जायजा लिया और पंचायत के अमले को गंदे पानी की निकासी की समुचित व्यवस्था बनाने के लिए अविलंब नाली निर्माण कार्य का प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। साथ ही अधूरी बनी नाली से पानी निकासी बाधित करते हुए गुंडागर्दी करने वाले दबंगों के खिलाफ पुलिस चौकी बराछ के चौकी प्रभारी को कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया गया। राजस्व विभाग की टीम से मिले ठोस आश्वासन के बाद प्रदर्शनकारी ग्रामीणों ने उन्हें अपना ज्ञापन सौंपते हुए धरना-प्रदर्शन समाप्त कर दिया।

दबंगों को बचाने चौकी प्रभारी ने की खानापूर्ती

ज्ञापन सौंपते हुए प्रदर्शनकारी ग्रामीणजन।
बताते चलें कि राष्ट्रीय खाद्य आपूर्ति विभाग मजदूर संघ जिलाध्यक्ष पन्ना केपी सिंह बुन्देला ने धरना-प्रदर्शन के पूर्व ग्रामीणों के साथ मिलकर अवरुद्ध सार्वजानिक नाली को खोलने का प्रयास किया था। जिससे बौखलाए गाँव के ही कतिपय दबंगों ने उनके साथ सरेआम गालीं-गलौंज करते हुए जान से मारने की धमकी दी थी। इसकी शिकायत समाजसेवी श्री बुन्देला ने पुलिस चौकी बराछ में की। लेकिन इस मामले में बराछ चौकी प्रभारी के द्वारा कथित तौर पर गुंडागर्दी कर अशांति फैलाने वाले दबंगों को संरक्षण देते हुए उनके खिलाफ आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध न करके 107/16 की प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की खानपूर्ति की गई। चौकी प्रभारी बराछ की इस कार्यप्रणाली को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश और असंतोष व्याप्त है।